छतरपुर। म.प्र. डिप्लोमा इंजीनियर्स एशोसिएशन के बैनर तले जिले भर के विभिन्न विभागों में कार्यरत इंजीनियरों ने हड़ताल शुरू कर दी है। इस हड़ताल से पंचायतों सहित अन्य विभागीय योजनाएं प्रभावित हुई है।

म.प्र. डिप्लोमा इंजीनियर्स एशोसिएशन के संगठन सचिव प्रशांत नायक ने बताया कि समय-समय पर पांच सूत्रीय मांगों को शासन से पूर्ण करने का आग्रह किया गया, परन्तु शासन द्वारा हर बार झूठे वायदे देकर बरगलाया गया। इस प्रकार की वादा खिलाफी के विरोध में म.प्र. डिप्लोमा इंजीनियर्स एशोसिएशन द्वारा 2 मई 18 से अनिश्चितकालीन हड़ताल का आव्हान किया गया था। म.प्र. डिप्लोमा इंजीनियर्स एशोसिएशन, जिला समिति, छतरपुर 16 मई से संघ के आव्हान पर हड़ताल में कूंद चुकी है, जिससे संपूर्ण छतरपुर जिले के विकास कार्य प्रभावित हो रहे हैं। श्री नायक ने बताया कि उपयंत्री संवर्ग को प्रारंभिक वेतनमान ग्रेड वेतन 3200 के स्थान पर 4800, संविदा पर पदस्थ उपयंत्रियों को नियमित, अन्य संवर्गों की तरह उपयंत्री संवर्ग को भी त्रिस्तरीय वेतनमान देने, उपयंत्री संवर्ग को सहायक यंत्री के पद पर अनिवार्य पदोन्नति, पीडब्लूडी वर्क मेनुअल के अनुसार कार्य विभागों का विस्तारीकरण किए जाने की मांग की जा रही है।

नोट समाचार के साथ फोटो 03 का केप्सन है

छतरपुर। अधिकारियों को ज्ञापन सौंपते इंजीनियर।