छतरपुर। प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट पवन कुमार शंखवार ने एक मामले में आरोपी मुन्नीलाल को तीन तीन माह का साधारण कारावास और 1500 रुपए के अर्थदंड से दंडित करने का आदेश पारित किया है। एडवोकेट वशिष्ठ नारायण श्रीवास्तव ने बताया कि फरियादी महेंद्र द्वारा थाना प्रभारी सिविल लाइन में उपस्थित होकर इस बात का आवेदन पेश किया कि वह ग्राम हिम्मतपुरा का रहने वाला है, मजदूरी करता है जबकि उसके बड़े भाई का साढ़ू राकेश सटई रोड छतरपुर में मुन्नी लाल सैनी के यहां उसके मकान में काफी दिनों से मजदूरी करता है। करीब 15 दिन हो गए हैं वह भी मुन्नीलाल सैनी के मकान में आकर मजदूरी करने लगा और उसका जीजा दयाराम राजापुर से मजदूरी करने आया था। जो रात में उसके पास दुकान में रहा और मुन्नीलाल से बोला कि उसकी 15 दिन की मजदूरी दे दो उसे घर जाना है तो मुन्नीलाल ने निर्माण कार्य पूर्ण हो जाने पर मजदूरी देने की बात कही। इतना ही नहीं मुन्नीलाल उसे एवं दयाराम दोनों को लाठी से मारने लगा। उसने दोनों को चोरी के मामले में फंसाने की धमकी भी दी। इस सूचना के आधार पर सिविल लाइन थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई गई। मामला न्यायिक मजिस्ट्रेट पवन कुमार शंखवार के न्यायालय में पहुंचा। एडीपीओ आशीष त्रिपाठी ने बताया कि मामले का अवलोकन कर न्यायायिक मजिस्ट्रेट पवन शंखवार ने पाया कि आरोपी मुन्नीलाल को सजा से दंडित किया।