-इलेक्शन मैनिफेस्टो-2019 के आयोजन पर युवाओं ने रखे विचार

भोपाल। नवदुनिया रिपोर्टर

सिविल सर्विसेज क्लब की ओर से जवाहर चौक स्थित सर्विसेज क्लब में इलेक्शन मैनिफेस्टो-2019 का आयोजन किया गया। प्रदेश भर से आए 30 युवाओं ने कार्यक्रम में भाग लिया। आगामी लोकसभा चुनावों को ध्यान में रखकर किए गए इस आयोजन में चुनाव से जुड़े मुद्दों पर बात की गई। मध्यप्रदेश के जिलों से आए युवाओं ने पांच मिनट में अपने एजेंडे को व्यक्त किया। कार्यक्रम में निर्णायकों के रूप में भक्ति शर्मा, रघु पांडे, अर्पित पाठक मौजूद थे। कार्यक्रम में एक्सीलेंस कॉलेज के छात्र वासुदेव चौहान ने पर्यावरण संकट से निपटने के कई इनोवेटिव तरीके बताए।

इंग्लिश मीडियम में पढ़ने की न हो बड़ी फीस

छात्र आकाश चौरसिया ने बताया कि देश में तुरंत मिनिस्ट्री ऑफ आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस बनाई जाए ताकि भारत इंडस्ट्री 4.0 का लीडर बन सके। भावेश अहिरवार ने कहा कि देश के हर आदमी को तुरंत यूनिवर्सल बेसिक इनकम दी जानी चाहिए। ताकि किसी आदमी को भूखा ना सोना पड़े। शिवम तिवारी ने कहा कि सभी सरकारी स्कूलों से हिंदी मीडियम खत्म कर उन्हें इंग्लिश मीडियम में बदल दिया जाए। ताकि गरीब लोगों को अपने बच्चों को इंग्लिश मीडियम में पढ़ाने के लिए कोई बड़ी फीस न देनी पड़े।

गांव के हाट में बिके वहीं का बना सामान

प्रतिभागी यश दीक्षित ने कहा कि हर गांव में एक हाट शुरू किया जाना चाहिए, जिसमें केवल उस गांव में बना सामान बिके। इससे शहर के लोग खरीददारी करने गांव आएंगे ना कि गांव के लोग शहर जाएंगे। प्रतिभागी भावेश ने कहा कि एलजीबीटी कम्युनिटी को लोकसभा में आरक्षण दिया जाए, ताकि वो अपने हक की बात संसद में रख सकें। मनीष मोहन ने कहा कि स्कूल और कॉलेज की परीक्षाओं में 50 प्रतिशत अंक इमोशनल कोशेंट के लिए दिए जाएं,ताकि बच्चे बुद्घिमान होने के साथ-साथ बेहतर इंसान भी बनें।

निर्णायकों ने रखी अपनी बात

इस मौके पर निर्णायक भक्ति शर्मा ने कहा कि यदि हम सच में कुछ बदलना चाहते हैं तो राजनीति में आना होगा। ना कि केवल समस्या बताएं। समस्या को सुलझाने की जिम्मेदारी भी हमें उठानी होगी। निर्णायक रघु पांडे ने कहा कि आज के समय में टेक्नोलॉजी भाग्य विधाता है। इसके सटीक उपयोग से हम प्रॉब्लम सुलझा सकते हैं