भितरवार।

अनुसूचित जाति-जनजाति अत्याचार निवारण कानून को लेकर सुप्रीम कोर्ट की नई गाइडलाइन के विरोध में दो अप्रैल को आयोजित भारत बंद के लिए जनपद पंचायत भितरवार के सात कर्मचारियों ने अवकाश लिया था। इस डबरा में काफी उपद्रव हुआ था। इन शासकीय कर्मचारियों के खिलाफ सबूतों के आधार पर पुलिस ने एफआईआर भी दर्ज की है। इसी प्रकार जनपद पंचायत कार्यालय भितरवार में पदस्थ एससी-एसटी वर्ग के सात कर्मचारियों ने भी भारत बंद में शामिल होने के लिए अवकाश के लिए जनपद सीईओ को आवेदन दिया था। इनमें एमएस कुलस्ते, बीएन कुमार, रामगोपाल सिंह, मुकेश सगर के अलावा तीन ऐसे कर्मचारी हैं, जिन्होंने अपने आवेदन में साइन कर नाम नहीं लिखे हैं। इस संबंध में सीईओ अशोक शर्मा ने बताया कि 2 अप्रैल को वह अवकाश पर थे, लेकिन इन लोगों की ओर से आवेदन सोशल मीडिया के विभागीय गु्रप पर डाले गए थे। इस संबंध में जांच की जा रही है।