दमोह। भारत सरकार के नीति आयोग द्वारा दमोह जिले को सबसे पिछड़ा जिला घोषित किया गया है। जिसके बाद नीति आयोग ने ही इस जिले की ग्रेडिंग सुधारने के लिए उसे गोद ले लिया है। इसी क्रम में गत दिवस कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ नीति आयोग के सदस्यों ने एक बैठक की और शिक्षा के पिछड़ेपन से जुड़े कारणों की समीक्षा की। इस मौके पर डीईओ, डीपीसी, बीआरसी बीईओ मौजूद थे। नीति आयोग के सदस्य श्री तिवारी ने अधिकारियों से जिले में बच्चों के शिक्षा के स्तर, उनकी नामांकन जैसे बिंदुओं पर चर्चा की। अब नीति आयोग के सदस्यों के निर्देशन में जिले को शिक्षा के क्षेत्र में बेहतर करने का प्रयास किया जाएगा।