दमोह/हटा। हटा में घर के अंदर सो रहे एक परिवार को जिंदा जलाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। बदमाशों ने आगजनी को अंजाम देने के लिए बड़े ही शातिर तरीके से प्लान बनाया था। तड़के साढ़े चार बजे जब पूरा परिवार गहरी नींद के आगोश मे था। तभी बदमाशों ने बाहर से पेट्रोल और केमिकल डालकर घर में आग लगा दी। घर के अंदर सो रहे लोग बाहर न निकल सकें। इसके लिए बदमाशों ने घर के सारे दरवाजे बाहर से बंद कर दिए थे। इस घटना में घर के मालिक मिलन पटेल के अलावा उनकी पत्नी, बेटी और नाती गंभीर रुप से घायल हो गए हैं। सभी को सिविल अस्पताल हटा में भर्ती कराया गया है।

बताया जा रहा है कि संजय वार्ड निवासी मिलन पटेल के घर मे आज बेटे का तिलक समारोह था। घर के सभी लोग रात 2 बजे तक तैयारियों में व्यस्त रहे और सुबह 4 बजे अचानक आग की लपटें उठती देख सभी ने बचने की कोशिश की तो बाहर से सारे दरवाजे बंद मिले। घर के ऊपरी हिस्से में सो रहे दोनों बेटों ब्रजेश और राकेश ने छत से कूदकर अपनी जान बचाई और फिर दरवाजों को खोलकर बाकी लोगों को बाहर निकाला।

हंगामा सुन आस-पड़ोस के लोग भी इकठ्ठा हो गए और आग पर काबू पाया गया। गनीमत रही कि आग की वजह से घर में रखा गैस सिलेंडर नहीं भभका। वरना बड़ा हादसा हो सकता था। परिवार की मानें तो उनकी किसी से कोई बुराई या रंजिश नही थी। किन लोगों ने इस घटना को अंजाम दिया, उन्हें नही पाता। इधर, हटा पुलिस ने पूरे मामले की जांच शुरू कर दी है।