खड़ेरी। नईदुनिया न्यूज

श्री राम सेवक किसान लोक कला विकास समिति के द्वारा सोमवार को महिला लोक कला जागरण व लोक कलाओं के प्रसार के लिए लोक गायकी की प्रस्तुति दी। तकरीबन 50 महिला कलाकारों के द्वारा यह प्रस्तुति दी गई। जिसमें बोहनी गीत, कार्तिक गीत, आषाढ़ माह गीत, बन्ना-बन्नी गीत इस तरह के तकरीबन 15 लोकगीतों की प्रस्तुति दी गई। इसके बाद बधाई नृत्य में दयाल पटेल के द्वारा अपनी प्रस्तुति दी गई।

कार्यक्रम में पूर्व मंत्री डॉ. रामकृष्ण कुसमरिया, राजीव अयाची, मोनू, विनीता तिवारी सागर, जितेंद्र पटैल खड़ेरी आदि की उपस्थिति रही। कार्यक्रम का निर्देशन राघवेंद्र सिंह लोधी ने किया। किसान महिला समिति अध्यक्ष बेलारानी सचिव भागवती व प्रमुख सचिव विश्वनाथ पटैल ने बताया कि इस महिला लोक कार्यशाला का आयोजन विगत एक माह से चल रहा है। जिसका उद्देश्य बुंदेलखंड में विलुप्त हो रही महिला लोक कलाओं को खोजकर उन्हें मंच के माध्यम से बढ़ावा देना। जिससे महिलाओं को लोक कलाओं के स्तर पर राष्ट्रीय पहचान मिल सके। इस अवसर पर दामोदर, मगन, प्रहलाद, दुर्गाप्रसाद, हल्लू, जगतरानी, भूरीबाई, क्रांति, अशोकरानी, अवधरानी आदि की उपस्थिति रही।