तेंदूखेड़ा। नईदुनिया न्यूज

जनपद अंतर्गत आने वाली कई ग्राम पंचायतों के लोग जलसंकट से जूझ रहे हैं। सुबह होते ही ग्रामीण पानी की तलाश में निकल जाते हैं। एक ओर ग्रामीण पानी को परेशान हो रहे हैं वहीं दूसरी ओर सरपंच, सचिव सीसी रोड निर्माण कार्य करवाने में लगे हैं। नईदुनिया के द्वारा जरूआ गांव का मामला प्रकाशित किया था। जहां ग्रामीण पानी के लिए परेशान थे और उनके यहां निर्माण कार्य में पानी खर्च करवाया जा रहा था। इसी तरह का मामला बैलवाड़ा गांव में देखने को मिला है। जहां गांव की महिलाएं दो किमी दूर के कुओं से पानी भरकर लाती हैं। इन महिलाओं का कहना है कि उनके पति दूसरे जिले मजदूरी करने गए हैं। रात को घर सूना नहीं छोड़ सकते इसलिए सुबह से पानी की तलाश में निकल जाते हैं।

जलस्रोत से ले रहे पानी

जरुआ गांव में जलसंकट बना हुआ है। इसके बाद भी वहां पर सीसी रोड का निर्माण कार्य किया जा रहा है। एक छोटे से जलस्रोत में थोड़ा सा पानी बचा है जिससे इस गांव के लोग अपना काम चला रहे हैं और सरपंच, सचिव उसी जलस्रोत से पानी निर्माण कार्य में ले रहे हैं।

इस संबंध में जनपद सीईओ मनीष बागरी का कहना है कि जलसंकट को लेकर यदि पक्के निर्माण कार्य पर रोक है तो उन कार्यों को रुकवाया जाएगा जो जारी हैं। वहीं जिपं सीईओ का कहना है कि मैं दिखवाता हूं।