कुम्हारी। नईदुनिया न्यूज

गांव में चल रही भागवतकथा में नर्मदा प्रसाद दुबे ने व्यासपीठ से भक्तों को बताया कि कलियुग में मुक्ति का सर्वश्रेष्ठ मार्ग भागवत कथा है। कथा में भगवान श्री कृष्ण ने बाल लीलाओं में ग्वाल बालों का जूठा भोजन करके ऊंच, नीच के भेदभाव को समाप्त करने का उपदेश दिया। विदुर के घर भोजन करके जाति, पाति के भेदभाव को नष्ट करने का उपदेश दिया। हम सब एक पिता की संतान है। हम सबको मिल जुलकर आपसी प्रेम व्यवहार बनाकर इस संसार में रहना चाहिए। गणेश चौबे, माया चौबे ने श्रद्धालुओं से पहुंचने की अपील की है।