तेंदूखेड़ा। नईदुनिया न्यूज

रविवार को तेंदूखेड़ा थाने ग्राम रक्षा समिति का संभाग स्तरीय सम्मेलन आयोजित किया गया। जिसमें जबेरा, नोहटा, तेजगढ़, इमलिया, तारादेही और तेंदूखेड़ा के रक्षा समिति के सदस्य उपस्थित रहे। कार्यक्रम में तेंदूखेड़ा एसडीओपी बीपी समाधिया, टीआई जेपी ठाकुर के साथ अन्य पुलिस थानों के प्रभारियों की उपस्थिति रही।

पुलिस की कमी को दूर करती है रक्षा समिति

जबेरा टीआई आरसी दांगी ने रक्षा समिति के सदस्यों को संबोधित करते हुए बताया की 19 वर्ष पहले रक्षा समिति अधिनियम लागू हुआ था। तभी से पुलिस को रक्षा समितियां सहयोग कर रहीं हैं। नोहटा थाना प्रभारी जितेंद भदौरिया ने बताया कि रक्षा समिति के सदस्य गांव-गांव में होते हैं जिससे घटना और अपराध की सूचना तत्काल मिल जाती है। तेंदूखेड़ा टीआई ने कहा कि जिस तरह से जनसंख्या बढ़ी है उस हिसाब से पुलिस बल कम है, लेकिन रक्षा समिति के सदस्यों की वजह से यह कमी महसूस नहीं होती। वे पुलिस के साथ 24 घंटे अपनी सेवाएं देते हैं।

एसडीओपी श्री समाधिया ने कहा कि आपको पुलिस ने ड्रेस और कार्ड दिया है वह आपकी पहचान है। इसलिए आप लोग किसी भी घटना की जानकारी तत्काल पुलिस को दे। उन्होंने कहा कि आगामी समय में हो सकता है आपके लिए शासन कुछ मानदेय भी देने लगे। रक्षा समिति के सदस्य जानकारी देते समय डर में न रहें। क्योंकि ड्यूटी के समय यदि आपके साथ कोई विवाद होता है एक शासकीय कर्मचारी की भांति ही आरोपित पर काम में बाधा डालने का मामला दर्ज किया जाएगा। इस दौरान कई पुलिस कर्मियों की उपस्थिति रही।