आदित्य सागर महाराज के प्रवचन

फोटो 11 दमोह। प्रवचन देते मुनि श्री।

दमोह। नईदुनिया प्रतिनिधि

शहर के पारसनाथ दिगंबर जैन नन्हे मंदिर में आचार्य अभिनंदन सागर महाराज के शिष्य मुनि आदित्य सागर और छुल्लक महाराज विराजमान हैं। रविवार को आयोजित धर्मसभा में उन्होंने कहा कि जोड़ने का नाम धर्म है तोड़ने का नहीं। धर्म वृद्धि के लिए देव शास्त्र और गुरु का पूजन पूजन सर्वश्रेष्ठ माध्यम है। पूजन में श्रेष्ठ द्रव्य का उपयोग और भाव की निर्मलता होने पर और भी श्रेष्ठ फल मिलते हैं। श्रावक धर्म और लोक व्यवहार के पालन को लेकर विभिन्न प्रसंगों के जरिए अपनी बात रखते हुए मुनि श्री ने पूजन के दौरान चढ़ाए जाने वाले अर्घ्य शब्द का अर्थ बताते हुए कहा कि इसका मतलब श्रेष्ठ होता है। इसीलिए जब भी हम पूजन के दौरान अष्ट द्रव्य को जब समर्पित करते हैं तो यही भावना भाते हैं कि भगवान हम आपके पूजन में संसार के श्रेष्ठ द्रव्य समर्पित कर रहे हैं।

उन्होंने आगे कहा कि पूजन में श्रेष्ठ द्रव्य सामग्री का उपयोग करना चाहिए। भले ही उसकी मात्रा कम क्यों ना हो। पूजन में भावों की प्रधानता बताते हुए मुनि श्री ने कहा कि निर्मल भावों के साथ की गई एक पूजा का फल भी श्रेष्ठ होता है। जबकि हम भगवान के सामने 4 पूजा भी कर लें, लेकि न हमारा मन कहीं और लगा हो तो ऐसी पूजा का कोई अर्थ नहीं निकलता। पूजन के दौरान द्रव्य चढ़ाते समय अंत में बोले जाने वाले स्वाहा शब्द का आशय बताते हुए मुनि श्री ने कहा कि इसका संधि विच्छेद स्व धन अहा होता है। अर्थात सब अच्छा अच्छा हो। इसीलिए हम भगवान के पूजन अर्चन के दौरान द्रव्य सामग्री भेंट करते हुए स्वाहा शब्द बोलकर यह भाव प्रकट करते हैं कि हे भगवान आपकी पूजा का फल सब अच्छा अच्छा हो। मुनि श्री ने कहा कि जोड़ने का नाम ही धर्म है तोड़ने का नहीं। आपस में प्रेम व्यवहार, वात्सल्य से धर्म में वृद्धि होती है। पूजा के दौरान यदि कोई अनजाने में गलती भी करता है तो उसकी अनदेखी कर देनी चाहिए ना कि उसे तत्काल टोकना चाहिए।

यदि हम एक दूसरे के प्रति आदर और सम्मान का भाव नहीं रखते, भूखे को भोजन नही कर सकते, खराब बर्ताव करते हैं तो गोशाला में जाकर गाय की सेवा करके दया धर्म दिखाने का भी कोई औचित्य नहीं है।

तेंदूखेड़ा आचार्यश्री का भव्य आगमन

फोटो 13 तेंदूखेड़ा। प्रवचन देते आचार्य श्री।

तेंदूखेड़ा। नईदुनिया न्यूज

आचार्यश्री विद्यासागर महाराज का नगर आगमन रविवार की सुबह तेंदूखेड़ा की धरती पर हुआ। आचार्य श्री के आगमन की खबर लगते ही सुबह पांच बजे से नगर में मेला जैसा नजारा आचार्यश्री के दर्शनों के लिए दिखाई दे रहा था। उनकी एक झलक पाने के लिए हजारों भक्त आस लगाए बैठे थे। नगर आगमन होने के बाद आचार्य श्री सीधे दिगंबर मंदिर पहुंचे बाद में अपने शिष्यों के साथ आहार के लिए निकले और आहार के बाद शांतिनाथ मंदिर पहुंचे। जहां कु छ समय विश्राम करने के बाद दोपहर बाद जबलपुर की ओर बिहार पर निकल गए।

महाराज जी को आहार कराने के लिए नगर में सैकड़ों भक्तों ने चौके लगाए, लेकि न उन्हें आहार कराने का सौभाग्य पिम्मी सेठ, रज्जी जैन को मिला। आचार्य श्री के साथ आए शिष्यों ने भी अलग-अलग जगह आहार ग्रहण कि ए। बड़े बाबा के दर्शन के बाद आचार्यश्री ने जबलपुर की ओर विहार कि या। जहां वे नगर से तकरीबन आठ कि मी चले और 27 मील के पास बनी जैन समाज की धर्मशाला में रात्रि विश्राम के लिए रुक गए।

वन समिति राशन दुकान का कि या निरीक्षण

फोटो 10 कु म्हारी। जांच करती खाद्य अधिकारी।

कु म्हारी। क्षेत्र में चल रही सेवा सहकारी समिति व वन समिति की राशन दुकानों का निरीक्षण फू ड इंस्पेक्टर आकांक्षा शर्मा ने कि या। कु म्हारी क्षेत्र धनगुंवा वन समिति, पटेरिया वन समिति, मझोली वन समिति राशन दुकान, पटेरिया व कु म्हारी क्षेत्र में चल रही सेवा सहकारी समिति दुकानों का उनके द्वारा निरीक्षण कि या गया। समिति संचालकों को निर्देश दिए कि प्रतिमाह खाद्यान्न वितरण समय पर हो, समय पर राशन दुकान खोलें जिससे प्रत्येक हितग्राही को राशन मिल सके ।

कांग्रेस की ब्लाक स्तरीय बैठक आयोजित

फोटो 14 बनवार। बैठक में उपस्थित कांग्रेसी।

बनवार। नईदुनिया न्यूज

रविवार को नोहटा में ब्लॉक कांग्रेस कमेटी की बैठक आयोजित की गई। जिसमें दमोह के पूर्व नपा अध्यक्ष मनु मिश्रा की उपस्थिति रही और उन्होंने कार्यकर्ताओं से विस्तृत चर्चा की। इस दौरान पूर्व विधायक प्रताप सिंह ने लोकसभा चुनाव संबंधी, संगठन, पोलिंग को गतिशील बनाने ब्लॉक अध्यक्ष, मंडलम अध्यक्ष, सेक्टर कमेटी गठित करने के लिए चर्चा की। इस अवसर पर संजीच शर्मा, ब्लॉक अध्यक्ष संतोष रजक, आईटी सेल विधानसभा अध्यक्ष भगवत सिंह, मान सिंह आदि की उपस्थिति रही।