- पल- पल में लगने वाले जाम से परेशान शहरवासी

फोटो 03 फुटपाथियों के कारण गांधी पार्क के पास लगा जाम।

दतिया। नईदुनिया प्रतिनिधि

बाजार में छोटे-छोटे दुकानदारों द्वारा सड़क किनारे अतिक्रमण किए जाने के कारण शहर से गुजरने वाले वाहनों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सड़क पर बैठने वाले दुकानदारों की वजह से किला चौक पर पल-पल जाम के हालात पैदा होते रहते हैं, हालांकि ट्रैफिक को नियंत्रित करने के लिए पुलिसबल मौजूद रहता है, लेकिन अतिक्रमणकरियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं किए जाने के कारण हालात जस के तस बने हुए हैं।

उल्लेखनीय है कि बाजार में गांधी पार्क के पास सड़क किनारे लगने वाली सब्जी मंडी के कारण चौराहे पर हमेशा जाम के स्थिति बनी रहती है। जिसका खामियाजा जाम में फंसने वाले लोगों को भुगतना पड़ता है। जबकि इन सब्जी विक्रेताओं को हटाने के लिए नगर पालिका द्वारा कई बार कार्रवाई की गई है, लेकिन कुछ दिन की सख्ती के बाद फिर स्थिति बदल जाती है। इसके अलावा सड़क पर दुकानों के सामने खड़े होने वाले वाहनों के कारण बाजार में जाम लगता रहता है।

किला चौक पर बढ़ने जा रहे हैं दुकानदार

शहर का हृदय स्थल होने के कारण किला चौक पर दिनों-दिन ठेले से फुटपाथी विक्रेताओं की संख्या बढ़ती जा रही है। सड़क किनारे दिनो-दिन बढ़ रहे अतिक्रमण के कारण सड़क की जाम की समस्या बढ़ती जा रही है।

पार्किंग स्थलों पर फुटकर विक्रेताओं का कब्जा

बाजार में दुकादारों तथा बाजार में आने वाले लोगों के वाहन खड़े करने के लिए टाउन हॉल तथा विवेकानंद मूर्ति के पास पार्किंग पार्किंग स्टैण्ड बनाए गए थे, लेकिन नपा की अनेदखी तथा फुटकर विक्रेताओं की मनमानी के कारण वहां वाहन की जगह दुकानें लग रही है और वाहन चालकों को मजबूरी में सड़क किनारे पर वाहन खड़ा करना पड़ रहा है। पार्किंग स्थलों को अतिक्रमण से मुक्त कराने के लिए प्रशासन द्वारा कई बार कार्रवाई गई है, लेकिन एक दो दिन बाद फिर वही हालात पैदा हो जाते हैं।

जाम से बेहाल हो रहे हैं शहरवासी

ट्रैफिक पुलिस की लापरवाही के कारण शहर में जगह-जगह लगने वाले जाम के कारण शहरवासियों को पल-पल पर परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इन दिनों सहालग होने के कारण बाजार में खरीददारों की भीड़ लगी हुई है। ऐसे में ट्रैफिक व्यवस्था सुदृढ़ नहीं होने के कारण जगह-जगह जाम लगा रहता है। जगह-जगह पर लग रहे जाम के कारण वाहन चालकों के साथ-साथ खदीददारों को भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।