देवास। कान का उपचार कराने डबलचौकी के समीप ग्राम राघौगढ़ जा रहे एक युवक और उसकी मां को सोमवार सुबह बायपास पर अज्ञात वाहन ने रौंद दिया। दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। देर रात तक वाहन का पता नहीं चला लेकिन बताया जा रहा है कि टक्कर डंपर ने मारी थी।

भौंरासा के संजय नगर कॉलोनी निवासी राजीव उर्फ राजू पिता स्व. मुंशीलाल लोधी (28) बाइक (एमपी-09, जेक्यू-3799) पर मां जसोदा उर्फ जस्सू बाई (50) को लेकर डबलचौकी के समीप ग्राम राघौगढ़ जा रहा था। बताया जाता है कि राजीव के कान में कोई तकलीफ थी और इसी का उपचार कराने वे राघौगढ़ जा रहे थे। इसी दौरान सुबह करीब साढ़े आठ बजे बायपास पर पुराने टोल नाके व राजोदा फाटा के बीच अज्ञात वाहन ने बाइक को टक्कर मार दी। हादसे में दोनों मां-बेटे के ऊपर से वाहन का पहिया निकल गया और दोनों की मौके पर ही मौत हो गई।सूचना पर नाहर दरवाजा थाना प्रभारी आरआर गौतम पुलिसबल के साथ मौके पर पहुंचे और शवों को पीएम के लिए जिला अस्पताल पहुंचाया। दोपहर में पीएम के बाद शव परिजनों को सौंप दिए गए। पुलिस ने अज्ञात वाहन चालक के खिलाफ केस दर्ज किया है। कुछ लोग बता रहे हैं कि टक्कर डंपर ने मारी जबकि नाहर दरवाजा थाना प्रभारी गौतम का कहना है कि वाहन की पहचान नहीं हो सकी है। अज्ञात वाहन चालक के खिलाफ केस दर्ज किया है।

मोबाइल से फोन किया तब हुई शिनाख्त

हादसे के बाद थाना प्रभारी को राजीव के शव के पास से उसका मोबाइल मिला। इसके आखिरी नंबर पर थाना प्रभारी ने फोन किया तो पता चला कि दोनों भौंरासा निवासी है। इसके बाद भौंरासा के लोगों से बात की गई। तब जाकर दोनों की शिनाख्त हुई।

इकलौता कमाने वाला था राजीव

राजीव के ऊपर पूरे परिवार की जिम्मेदारी थी। उसके पिता का पूर्व में निधन हो चुका है। वह मां के अलावा उसकी पत्नी, दो बेटियों व दो बेटों के साथ रहता था। मजदूरी करके वह परिवार का भरण पोषण कर रहा था। हादसे के बाद राजीव के मासूम बच्चों के सर से पिता का साया उठ गया। उसका बड़ा बेटा समीर, छोटा बेटा जितेंद्र, बेटी मनीषा व सबसे छोटी बेटी सलोनी है। राजीव की एक बहन मायाबाई है जिसकी नेवरी में शादी हुई है।