-आर्थिक रूप से कमजोर युवाओं के लिए बढ़ेंगे सरकारी नौकरी में रोजगार के अवसर

देवास। नईदुनिया प्रतिनिधि

आर्थिक रुप से कमजोर सवर्ण वर्ग के लिए सरकारी नौकरियों व शिक्षण संस्थाओं में 10 प्रतिशत आरक्षण पर संसद की मुहर लग गई है। सरकार के इस कदम को सामान्य वर्ग के युवाओं ने एक बड़ा कदम माना है। इनका कहना है कि 70 साल में पहली बार किसी सरकार ने सामान्य वर्ग के बारे में चिंतन किया है। इससे सामान्य वर्ग के आर्थिक रुप से कमजोर युवाओं को आगे बढ़ने में मदद मीलेगी। इस विधेयक के पारित होने से सामान्य वर्ग को आशा की नई किरण दिखाई दे रही है।

आर्थिक उत्थान की शुरुआत

प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी कर रही देवास की शिवानी नागर का कहना है सामान्य वर्ग के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण राहत की खबर है। अब तक योग्यता होने के बावजूद सामान्य वर्ग के युवाओं को नौकरी नहीं मील रही थी। यह आरक्षण सामान्य वर्ग के कमजोर तबके के लिए आर्थिक उत्थान की शुरुआत है। इसमें आय सीमा में कमी करना चाहिए, जिससे वास्तविक रुप से कमजोर वर्ग को लाभ मील सकें।

शिक्षा व रोजगार में होगा लाभ

कन्नौद के युवा भारत शर्मा का कहना है आर्थिक रुप से कमजोर सामान्य वर्ग को शिक्षा एवं रोजगार में 10 प्रतिशत आरक्षण देने से जुड़ा 124वां संविधान संशोधन विधेयक राज्यसभा में पास होना बहुत गर्व की बात है। यह एक पहल है जो आगे जाकर बड़ा रुप लेगी।्रइससे सामान्य वर्ग के गरीब परिवार को शिक्षा एवं रोजगार में बहुत लाभ होगा। अब सामान्य वर्ग को पिछड़ा हुआ नहीं मान जाएगा।

उम्मीद की किरण जागी

कन्नौद के युवा आशीष अग्रवाल का कहना है देश में बीते कई दशकों से सवर्ण समाज के गरीब परिवार के शिक्षित व होनहार युवा आरक्षण नीति का शिकार होकर स्तरहीन जीवन यापन करने को मजबूर थे। लेकिन अब सवर्ण समाज के लोगों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने के निर्णय के बाद एक उम्मीद की किरण दिखाई दे रही है।

सामान्य वर्ग के लिए रास्ते खुलेंगे

प्रतिस्पर्धा की तैयारी कर रहे हैं चापड़ा के राहुल सेंधव का कहना है 70 साल में पहली बार किसी सरकार ने सामान्य वर्ग के लिए सोचा है। इस फैसले से सामान्य वर्ग के लिए रास्ते खुलेंगे। आने वाले दिनों में नौकरी में सामान्य वर्ग को फायदा पहुंचेगा।

वंचित लोग भी आगे बढ़ सकेंगे

सोनकच्छ के राहुल शर्मा का कहना है मोदीजी ने जो कदम उठाया है, वह सराहनीय है। पहली बार सरकार ने सवर्णों का मुद्दा लिया है। इस 10 प्रतिशत आरक्षण से सवर्ण वर्ग के वंचित लोग भी नौकरी व पढ़ाई-लिखाई में आगे बढ़ सकेंगे।

नौकरी में अवसर मीलेंगे

सोनकच्छ के ही निकट ग्राम कोठड़ा के विनोद सेंधव का कहना है भाजपा की केंद्र सरकार द्वारा जो सवर्णों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण की बात रखी गई है, वह सराहनीय है। मैं खुद एमकॉम, बीएड पास हूं, लेकिन मैं आज तक रोजगार से वंचित हूं। अब बेरोजगारों को नौकरी में अवसर मील सकेंगे।

आगे बढ़ने में मीलेगी मदद

हाटपीपल्या के दीपेंद्र सेंधव का कहना है मैंने वर्ष 2013 में एसआई की एग्जाम दी थी। इसमें मैं सिर्फ दो नंबर से पिछड़ गया। यदि उसी समय आरक्षण होता तो नतीजा कुछ और होता। यह फैसला आगामी वर्षों में मील का पत्थर साबित होगा। आरक्षण से अब सामान्य वर्ग को भी आगे बढ़ने में मदद मीलेगी।

10 देवास 70ः शिवानी नागर

10 केएनडी 04ः आशीष अग्रवाल्र

10 केएनडी 05ः भारत शर्मा

10 सीएचपी 05ः राहुल सेंधव

10 एसओएन 05ः राहुल शर्मा

10 एसओएन 06ः विनोद सेंधव

10 एचटीपी 05ः दीपेंद्र सेंधव