धार-खिलेड़ी। सिलोद के पास सोमवार तड़के ड्राइवर को झपकी आने से वैन बेकाबू होकर सीमेंट के पाइप से टकरा गई। हादसे में ढाई साल की मासूम की दबने से मौत हो गई।

पिता ही वैन चला रहा था उसकी गोद में मासूम बैठी थी। मासूम के शव के साथ पिता भी खुद में फंस गया था, जिसे जैक लगाकर एक घंटे बाद निकाला जा सका। पिता को जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।

पत्नी अनीता ने बताया कि वे खिलेड़ी की रहने वाले हैं। पति इंदर और ढाई साल की बेटी वसुंधरा सहित परिवार के सदस्य सिमोलखेड़ी में शादी के कार्यक्रम में गए थे। 14 अप्रैल को शाम को निकले थे।

रातभर कार्यक्रम हुआ। अलसुबह करीब 3 बजे खिलेड़ी के लिए निकले थे। पति इंदर की गोद में बेटी वसुंधरा बैठी थी। वैन में सात-आठ लोग थे।

सिलोद के पास अचानक सड़क की दूसरी तरफ वैन (एमपी 35-बीए 0638) सीमेंट के बड़े पाइप से टकरा गई। आगे बैठे शंकर ने बताया कि इंदर को झपकी आ गई। कुछ देर वैन के लहराने के बाद यह हादसा हो गया।

इंदर की गोद में बैठी वसुंधरा गिरकर दब गई। वसंुधरा की एक चीख निकाली और दबने से उसकी मौत हो गई। इंदर का पैर दब गया था। आसपास गांव के लोग भी मदद के लिए आए।

जैक लगाकर एक घंटे बाद वसुंधरा का शव निकाला जा सका। एबुंलेंस से इंदर को जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया। अनिता को भी पैर में चोट लगी है। हालांकि उसे भर्ती नहीं किया गया।

बेटी दुनिया में नहीं रही, मां को नहीं दी जानकारी

परिजन ने अनीता को कई घंटों तक बेटी वसुंधरा की मौत की जानकारी नहीं दी। वह बेटी की हालत देखकर बेसुध हो गई थी। परिजन ने बताया कि बेटी भर्ती है। कुछ घंटे बाद जब बच्ची के पोस्टमार्टम को लेकर कागजी कार्रवाई हुई तो अनीता को जानकारी दी गई।