पेज 14 की बॉटम

- पंचायत परिसर में खड़ा है वाहन, जिम्मेदारों को पता ही नहीं

- सुसारी। नईदुनिया न्यूज

गांव में डोर टू डोर जाकर कचरा संग्रहित करने वाला वाहन पिछले पांच दिन से नहीं आ रहा। मजबूरी में लोगों को खुले में कचरा फेंकना पड़ रहा है। इससे गंदगी फै लने लगी है। बड़ी बात यह है कि इस बारे में पंचायत के जिम्मेदारों को पता ही नहीं है। जबकि वाहन छह दिन से पंचायत परिसर के बाहर ही खड़ा है। ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि पंचायत कि स तरह की कार्यप्रणाली से कार्य कर रही है।

सुसारी जिले की तीसरी बड़ी ग्राम पंचायत है। सांसद निधि से प्राप्त कचरा वाहन को 26 जनवरी से ग्राम में शुरु कि या गया था। इसका संचालन ग्राम पंचायत कर रही है, लेकि न गत एक माह से व्यवस्था बिगड़ गई है। कभी वाहन एक दिन छोड़कर आता है, तो कभी नहीं। पिछले पांच दिन से तो गांव में वाहन आना ही बंद हो गया। ऐसे में लोगों को अपने घरों का कचरा मजबूरी में खुले में फेंकना पड़ रहा है।

एक व्यवस्था वह भी सही नहीं

ग्राम में पेयजल व सड़क बत्ती की व्यवस्था ग्राम के लोगों की बनी समिति के माध्यम से सुचारु रुप से संचालित हो रही है। सिर्फ सफाई व कचरा वाहन का संचालन ग्राम पंचायत कर रही है, लेकि न वह भी अब सही तरीके से संचालित नहीं हो रही है। ऐसे में अब सवाल उठने लगा है कि क्या चुने हुए जनप्रतिनिधि एक व्यवस्था का भी संचालन व्यवस्थित तरीके से क्यों नहीं कर पा रहे हैं। जबकि स्वच्छता के लिए शासन की ओर से पर्याप्त राशि आ रही है। सूत्रों के अनुसार गत चार माह से कचरा वाहन चलाने वाले चालक को वेतन नहीं दिया गया है। यही हाल चार सफाईकर्मियों के भी है।

जिम्मेदारों को पता ही नहीं

गत पांच दिन से गा?व में कचरा वाहन का संचालन नहीं हो रहा है। वाहन ग्राम पंचायत के समीप ही खड़ा है। जबकि जिम्मेदार कह रहे हैं कि क्या वाहन नहीं चल रहा है। जो बताता है कि ग्राम पंचायत के जिम्मेदार कि स तरह से कार्य कर रहे हैं या वे ग्राम पंचायत में आते ही नहीं है। उन्हें पता ही नहीं है कि ग्राम पंचायत क्षेत्र में कि स तरह का कार्य हो रहा है। इसे लेकर जनपद के अधिकारियों का भी ध्यान नहीं है।

सिर्फ सीमेंटीकरण सड़क पर ध्यान

ग्राम पंचायत के जिम्मेदारों का ध्यान सिर्फ सीमेंटीकरण सड़क निर्माण पर ही रहता है। यह अच्छी बात है कि ग्राम में पक्की सड़क बने, जिससे लोगों को सुविधा मिले, लेकि न जिस तरह सड़क निर्माण को लेकर पंचायत के चुने हुए जनप्रतिनिधि सक्रिय नजर आते हैं, वैसे दूसरी सुविधाओं को देने में क्यों नहीं आगे आते। ऐसे में ग्राम पंचायत का सिर्फ सड़क निर्माण पर ही ध्यान देना कई संदेह पैदा करता है।

दिखवाता हूं

पंचायत सचिव जयराम लखमनिया ने बताया कि मुझे नहीं पता है कि कचरा वाहन क्यों बंद है। मैं आज ही दिखवाता हूं।

?ोटो-

21 सुसारी 1 ग्राम पंचायत परिसर में खड़ा कचरा वाहन।

-------------------------------------------------