Naidunia
    Monday, December 18, 2017
    PreviousNext

    50 प्रतिशत किशोरियां एनीमिया का शिकार

    Published: Fri, 08 Dec 2017 03:46 AM (IST) | Updated: Fri, 08 Dec 2017 03:55 PM (IST)
    By: Editorial Team
    anemic level 2017128 155545 08 12 2017

    उमरिया। जिले में लालिमा योजना के तहत बच्चों, किशोरी बालिकाओ एवं महिलाओ के बेहतर स्वास्थ एवं एनीमिया के उन्मूलन हेतु लालिमा दिवस मनाया गया। उत्कृष्ट विद्यालय में लगभग 400 से अधिक बालिकाओ ने कार्यक्रम में भाग लिया।

    इस दौरान डॉ. ऋचा गुप्ता एवं पैरा मेडिकल स्टाफ द्वारा हीमोग्लोबिन, बीएमआई की जांच की गई। डॉक्टर ऋ चा गुप्ता ने एनीमिया क्या है? उसके लक्षण, बचाव एवं निदान के संबंध में अवगत कराया। बालिकाओ में वय संधि पर होने वाले परिवर्तन एवं एनीमिया के कारण लगातार प्रतिमाह की होने वाली खून की कमी कैसे परिलक्षित होती है।

    इस विशय पर माहवारी के उन दिनों में स्वच्छ भोजन, पौष्टिकता पूर्ण भोजन आयरन के अवषोशण के लिए बेर, करौंदा, आम, नीबू, आंवला एवं आयरन गोलियों का सेवन करने की सलाह दी गयी। भोजन में रोटी, चावल, दाले, हरी सब्जी, कंद, नीबू संतरा, इमली, दूध एवं दूध से बनी वस्तुएं लेने की सलाह दी गयी।

    क्विज प्रतियोगिता

    लालिमा दिवस पर बालिकाओं के लिए क्विज प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें सीडीपीओ रीतेष दुबे द्वारा बालिकाओं से प्रश्न पूछे गये एवं सही जवाब देने वाली 10 बालिकाओं को पुरस्कृत किया गया।

    प्रश्नोत्तरी में आने वाले प्रश्नों के बारे में विस्तार पूर्वक चर्चा की गई। जिला कार्यक्रम अधिकारी श्रीमती शान्ति बेले द्वारा बालिकाओ को उदिता योजना के विषय व सेनेटरी नेपकिन की उपयोगिता एवं निपटान व एनीमिया के प्रभाव पर जानकारी दी गई। इस अवसर पर स्कूल टीचर, ईसीसीई समन्वयक एवं स्निप समन्वयक उपस्थित हुए। गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में सबसे ज्यादा कुपोषण है और यहां की 50 प्रतिशत किशोरियां एनीमिया का शिकार हैं।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें