मेधावी नहीं सरकार ने छलावी छात्र योजना शुरू की

- छात्र संगठन डीएसओ ने योजना के विरोध में दर्ज कराया विरोध

गुना। नवदुनिया प्रतिनिधि

कक्षा 12वीं में 75 प्रतिशत अंक पाने वाले छात्रों के लिए उच्च शिक्षा विभाग ने मेधावी छात्र योजना शुरू की है, जो छलावी योजना से कम नहीं है। क्योंकि इस योजना का लाभ लेने वाले छात्रों को छात्रवृत्ति से वंचित कर दिया। छात्र संगठन डीएसओ ने इस योजना को कपटपूर्ण बताकर निंदा की है। संगठन की सोनम शर्मा ने बताया कि मेधावी छात्रों को शासन ने निशुल्क प्रवेश देकर 1500 से 2000 के लगभग प्रवेश फीस न लेकर प्रोत्साहन तो दिया जा रहा है, लेकिन इनमें से कई छात्रों की 3 से 5 हजार रुपए तक की स्कॉलरशिप को खत्म करना धोखाधड़ी है। मेधावी छात्रों को स्कॉलरशिप का लाभ भी दिया जाना चाहिए।

छात्रवृत्ति नहीं आई

डीएसओ संगठन पदाधिकारी ने यह भी बताया कि प्रथम वर्ष के परीक्षा फार्म भरे जा रहे हैं। साधारण विषय के छात्रों से 2 हजार रुपए तक और स्ववित्तीय व कंप्यूटर वाले छात्रों से दस हजार रुपए तक प्रवेश फीस जमा कराई जा रही है, लेकिन इनमें से कई छात्र जो छात्रवृत्ति के लिए पात्र है, उन्हें छात्रवृत्ति नहीं दी गई है, इससे छात्र परेशान हो रहे हैं। वहीं स्नातक चतुर्थ सेमेस्टर के छात्रों का अब तक स्मार्टफोन नहीं बांटे गए हैं। इन समस्याओं के समाधान के लिए प्राचार्य को आवेदन देकर मांग की गई है।

वर्जन-

जिन छात्रों के आवेदन देरी से आए केवल उन्हीं को छात्रवृत्ति नहीं मिल पाई है। ऐसे छात्रों की संख्या केवल 10 प्रतिशत है। जल्द ही उन्हें भी छात्रवृत्ति मिल जाएगी। स्मार्टफोन का वितरण 24 मार्च को विधायक द्वारा किया जाएगा। मेधावी छात्र योजना का लाभ लेने वाले छात्र चाहे तो उन्हें छात्रवृत्ति का लाभ मिल सकता है, लेकिन उन्हें दोनों में से किसी एक योजना को चुनना होगा।

-डॉ. बीके तिवारी, प्राचार्य पीजी कॉलेज गुना

नोट-फोटो केप्शन

1403जीएन-03-गुना। छात्र समस्याओं के निराकरण के लिए डीएसओ ने दिया आवेदन।