ग्वालियर।बहू ने बुधवार रात 10 बजे ससुर पर 18 दिन पूर्व दुष्कर्म करने व पति, सास और 10वीं में पढ़ने वाले देवर के खिलाफ दहेज प्रताड़ना का मामला थाटीपुर थाने में दर्ज कराया। मामला दर्ज होने के 6 घंटे बाद ससुर ने गुरुवार तड़के छत पर फांसी लगाकर जान दे दी।

ससुर के खुदकुशी करने के समय पीड़िता के पति को पुलिस ने थाने में बैठाकर रखा था। खुदकुशी की सूचना मिलते ही पुलिस ने उसे छोड़ दिया। पति का आरोप है कि पत्नी 11 मई को बच्चों को साथ लेकर उसके फुफेरे भाई के साथ भाग गई थी। उसी दिन थाटीपुर थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई थी। पत्नी के मोबाइल में उसके फुफेर भाई के मैसेज भी हैं। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

न्यू जीवाजी नगर थाटीपुर निवासी विवाहित महिला अपने मायके पक्ष के लोगों के साथ बुधवार की शाम थाटीपुर थाने पहुंची। महिला ने बताया कि उसका मायका बानमोर जिला मुरैना में हैं। उसकी शादी करीब 10 साल पूर्व न्यू जीवाजी नगर में रहने वाले युवक के साथ हुई थी। उसके दो बच्चे हैं। बड़ी बेटी 7 साल की और छोटा बेटा साढ़े चार साल का है। पति पुताई का काम करता है। पति,सास व देवर उसे दहेज के लिए प्रताड़ित करते हैं।

पति व सास शादी में गए थे, ससुर ने किया दुष्कर्म

महिला ने आरोप लगाया कि 30 अप्रैल को उसका पति, सास व देवर शादी में गए थे। घर में ससुर व वह अकेली थी। मौके का फायदा उठाते हुए रात साढ़े बारह बजे ससुर ने उसके साथ दुष्कर्म कर दिया। पुलिस ने ससुर के खिलाफ धारा 376 के तहत मामला दर्ज कर लिया।

मामला दर्ज होने के 6 घंटे बाद लगा ली फांसी

दुष्कर्म का मामला दर्ज होने की सूचना मिलते ही न्यायालय में भृत्य के पद पर कार्यरत ससुर तनाव में आ गया। नींद नहीं आने पर शुक्रवार तड़के ससुर छत पर टहलने के लिए चले गए। कुछ देर बाद ही छत पर डिस्क के तार से फांसी का फंदा बनाकर खुदकुशी कर ली। शव फांसी पर लटका देखकर घर में कोहराम मच गया।

झूठा मामला दर्ज होने से व्यथित थे पिता

11 मई को उसकी पत्नी दोनों बच्चों को साथ लेकर घर से भाग गई थी। जल्दबाजी में अपना मोबाइल घर पर ही छोड़ गई। पत्नी के मोबाइल में उसके फुफेरे भाई के नंबर से मैसेज थे। जिसमें उसने हर मैसेज में मेरी पत्नी को जानू कहकर संबोधित किया था। उसी दिन पत्नी की गुमशुदगी थाटीपुर में दर्ज करा दी थी। पत्नी फुफेरे भाई के साथ ही गई थी। इसकी जानकारी उसके मायके वालों को भी थी।

दूसरे दिन 12 मई को उसके मायके के लोग घर आए और झूठा आरोप लगाने लगे। घर पर हुई पंचायत में ये लोग 10 मई को दुष्कर्म का आरोप लगा रहे थे, लेकिन एफआईआर में 30 अप्रैल को दुष्कर्म होना बताया है। महिला के पति ने स्वीकार किया कि वह 30 मई को मां के साथ शादी में गया था। पत्नी के थाने पहुंचते ही पुलिस ने उसे बुधवार शाम 5 बजे थाने बुला लिया। रातभर थाने में बैठाकर रखा।। सुबह पिता के फांसी लगाकर खुदकुशी करने की सूचना मिलते ही पुलिस ने उसे छोड़ दिया। पत्नी ने पिता पर झूठा दुष्कर्म का मामला दर्ज कराया है। उसी से व्यथित होकर उन्होंने आत्महत्या की है।

(पिता के खुदकुशी करने के बाद जैसा कि बेटे ने नईदुनिया को बताया)