ग्वालियर। मंत्रों की शक्ति से शरीर के हर प्रकार का रोग ठीक हो जाता है। साथ ही हर प्रकार की व्याधियों से भी मुक्ति मिल जाती है। इसी विश्वास को लेकर दिगम्बर जैन वरैया जैन भवन दानाओली में श्रमण संस्कृति परमार्थ संस्थान द्वारा 48 दिवसीय भक्तामर पाठ किया जा रहा है।

बुधवार को जैन भवन दानाओली में पंडित सुनील भंडारी, डॉ. सरोज जैन, सुनीता एवं पुष्पलता जैन ने मंत्रों के उच्चारण के साथ भक्तामर पाठ किया। यह पाठ 29 मार्च से प्रारंभ हुआ था जो कि 16 मई को समाप्त होगा। यह भक्तामर पाठ शाम को 8 बजे से प्रारंभ होकर 9 बजे तक चल रहा है। इसके अंत में दो दिवसीय अखण्ड पाठ एवं विशेष आराधना होगी।

48 रिद्धि-सिद्धि मंत्रों का किया उच्चारण

भक्तामर पाठ के दौरान समाजजनों ने भक्तामर के आकर्षक माढ़ने अर्पित किए। साथ ही 48 महाकाव्यों के दोहे के साथ रिद्धि-सिद्धि मंत्रों का भी पाठ किया गया। इसके साथ ही 48 दीपक भी प्रज्जवलित किए गए । भक्तामर पाठ के बाद सकल समाज के लोगों ने भगवान आदिनाथ की आरती उतारी। इस अवसर पर मंदिर समिति के महामंत्री मुकेश जैन, कार्यक्रम संयोजक भरत जैन, सचिव नीरज जैन, जवाहरलाल जैन, कमल जैन आदि उपस्थित थे।

महाअर्चना के साथ होगा भक्तामर का समापन

16 मई को भक्तामर पाठ के समापन अवसर पर महाअर्चना की जाएगी। इसके साथ ही विश्वशांति के लिए महायज्ञ का भी आयोजन किया जाएगा।