ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। Gwalior News : दिव्यांगों के लिए पहली बार नई कवायद ग्वालियर से शुरू की जा रही है। उन्हें फीलगुड के साथ राहत भी देंगी। प्रदेश में पहली बार सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग ने मेट्रिमोनियल साइट्स की तर्ज पर दिव्यांग मेट्रिमोनियल पोर्टल तैयार कराया है। इसमें दिव्यांगजनों का पूरा डाटा कैटेगरी वाइज फीड होगा और विवाह योग्य दिव्यांगजन को एक क्लिक पर पूरा डाटा मिल जाएगा। विभाग ने डाटा फीडिंग का काम पूरा कर लिया है और जल्द यह पोर्टल पब्लिक डोमेन में शुरू कर दिया जाएगा। प्रयोग सफल रहा तो ग्वालियर का प्रयोग पूरे प्रदेश में फॉलो किया जाएगा। वहीं जिला विकलांग एवं पुनर्वास केंद्र(डीडीआरसी) में जल्द बाल दिव्यांगों को राहत देने पीडियाट्रिक सेल शुरू किया जाएगा। जहां एक्सपर्ट बाल दिव्यांगों को देखेंगे। तीसरा एक और प्रयोग जल्द किया जाएगा कि दिव्यांगों की हर तरह की समस्या के लिए सिंगल विंडो शुरू की जाएगी। इसके लिए जगह की तलाश की जाएगी।

दिव्यांगों लिए यह नई राहतः

1-मेट्रिमोनियल पोर्टल

इसे सामाजिक न्याय विभाग ने तैयार करा लिया है और सभी दिव्यांगों का डाटा फीड किया गया है। मेल-फीमेल को उम्र और पते के साथ फीड किया गया है। इसके साथ ही उनकी वर्किंग प्रोफाइल भी इसमें शामिल होगी, जिसमें पासपोर्ट साइज का फोटो भी अपलोड रहेगा। लॉगिन ऑईडी अधिकृत ढंग से बनाए जाने के बाद इस पोर्टल में प्रवेश मिलेगा। इसमें यह आसानी होगी कि दिव्यांगजन युवक-युवती को विवाह के लिए भटकने की बजाए आसानी से डाटा मिलेगा।

2-पीडियाट्रिक सेल

जिला विकलांग एवं पुनर्वास केंद्र में पीडियाट्रिक सेल को शुरू करने का प्रस्ताव तैयार कर लिया गया है। इसके लिए कलेक्टर संबंधित विभाग को पत्र जारी कर रहे हैं। अभी डीडीआरसी में जगह कम होने के कारण जेएएच के पास शिफ्ट होते ही यहां पीडियाट्रिक सेल शुरू हो जाएगा। यहां अलग से पीडियाट्रिक बाल दिव्यांगों का इलाज करेंगे और काउंसलिंग भी कर सकेंगे। अभी बाल दिव्यांगों को अन्य अस्पतालों में परेशानी उठानी पड़ती है।

3-सिंगल विंडो

दिव्यांगजनों की विभिन्न तरह की समस्याओं के लिए अभी अलग-अलग विभागों से संपर्क करना होता है। जिसमें परेशानी उठानी होती है। जिले में अब सिंगल विंडो सिस्टम किया जाएगा। जिससे एक ही जगह पर संबंधित हर समस्या का निदान मिल सके। इसके लिए जिला विकलांग एवं पुनर्वास केंद्र या किसी और मुफीद जगह चयन की प्रक्रिया की जा रही है। अभी तक दिव्यांगों के लिए जिले में कोई सिंगल विंडो सिस्टम नहीं था।

चल रही है प्रक्रिया

दिव्यांगजनों के लिए मेट्रिमोनियल पोर्टल तैयार किया गया है। जिसमें डाटा फीड कर दिया गया है। इससे दिव्यांगजनों को विवाह के लिए परेशानी नहीं उठानी होगी। इसकी तरह पीडियाट्रिक सेल और सिंगल विंडो सिस्टम भी जल्द शुरू किया जाएगा। डीडीआरसी शिफ्ट होने का इंतजार किया जा रहा है। संजीव खेमरिया, ज्वाइंट डायरेक्टर, सामाजिक न्याय विभाग, ग्वालियर