ग्वालियर। अमृत सिटी(अटल मिशन फॉर रीज्यूविनेशन एंड अर्बन ट्रांसफॉर्मेशन) योजना के तहत डबरा और भिंड जिले की सैटेलाइट इमेज आ गईं हैं। अब ग्वालियर की सैटेलाइट इमेज टाउन एंड कंट्री प्लानिंग ने नेशनल रिमोट सेंसिंग सेंटर हैदराबाद से मांगी है। अमृत सिटी और ग्वालियर, मुरैना व साडा के ज्वाइंट मास्टर प्लान के लिए मंगवाई जा रहीं सैटेलाइट इमेज के जरिए एक-एक बिल्डिंग को कोड किया जाएगा। यह पहला ऐसा मास्टर प्लान होगा जिसमें एक-एक मीटर की दूरी की पोजिशनिंग सामने होगी। हर विभाग का डाटा,यहां तक कि आंगनबाड़ी से लेकर हर दफ्तर का डाटा मास्टर प्लान में शामिल रहेगा। 2020 तक मास्टर प्लान तैयार कर लिया जाएगा।

ज्ञात रहे कि अटल अमृत सिटी में देश के 500 शहरो को शामिल किया गया है जिसमें मध्य प्रदेश के 34 निकाय शामिल हैं। अंचल के सात निकाय इसमें शामिल हैं जिसमें चंबल संभाग से भिंड और मुरैना व ग्वालियर संभाग से ग्वालियर,दतिया, डबरा,गुना और शिवपुरी शामिल किए गए हैं। अमृत सिटी के तहत इन निकायों का मास्टर प्लान तैयार कराया जा रहा है।

इनका बनेगा मास्टर प्लान और एरिया

क्षेत्र क्षेत्रफल आबादी

ग्वालियर निवेश क्षेत्र 75579 हेक्टेयर 1229200

विशेष क्षेत्र ग्वालियर 30381 हेक्टेयर 57340

मुरैना निवेश क्षेत्र 11539 हेक्टेयर 299251

विशेष क्षेत्र मुरैना 36812 हेक्टेयर 144037

विशेष क्षेत्र भिंड 958 हेक्टेयर 9476

क्या है अमृत सिटी योजना

राष्ट्रीय प्राथमिकता के रूप में शहरों में परिवारों को बुनियादी सेवाएं जैसे जलापूर्ति,सीवरेज,शहरी परिवहन आदि मुहैया कराने और सुख सुविधाएं देने के मकसद से सिस्टम तैयार करना है। इससे गरीबों और वंचितों सभी के जीवन स्तर में सुधार होगा। यह सुनिश्चित करना भी टारगेट है कि हर परिवार को नल कनेक्शन,सीवरेज कनेक्शन, हरियाली क्षेत्र,खुले मैदान और पार्क, शहरों की भव्यता में वृद्वि करना,गैर मोटरीकृत परिवहन के लिए सुविधाओं का निर्माण करना,प्रदूषण को कम करना आदि शामिल हैं। इसमें एक लाख से ज्यादा आबादी वाले 500 निकायों को शामिल किया गया है।

पहली बार इतना बारीक मास्टर प्लान बनेगा

विशेष क्षेत्र विकास प्राधिकरण का एरिया बढ़ने के बाद ग्वालियर और मुरैना व साडा का एक ही मास्टर प्लान तैयार किया जा रहा है। यह पहला ऐसा मास्टर प्लान होगा जिसमें सोशल,इकॉनॉमिकल डाटा कलेक्शन भी किया जाएगा। सभी विभागों को मास्टर प्लान के लिए होमवर्क दे दिया गया है। ग्वालियर जिले का बेस मैप मिलने के बाद काम और तेज किया जाएगा। प्रदेश की 34 निकायों में से 10 निकायों की सैटेलाइट इमेज अब तक मिल चुकी है।

सैटेलाइट इमेज मांगी है

साडा,ग्वालियर और मुरैना के ज्वाइंट मास्टर प्लान के लिए सैटेलाइट इमेज मांगी गई हैं। जल्द ग्वालियर की इमेज मिलने वाली है। अमृत सिटी के तहत मास्टर प्लान बनाने का भी काम जारी है। यह मास्टर प्लान सभी बिंदुओं को कवर करते हुए बनाया जा रहा है- राहुल जैन, डायरेक्टर, टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग,मप्र

डाटा कलेक्शन चल रहा

अमृत सिटी के तहत अभी तक प्रदेश में 10 निकायों की सैटेलाइट इमेज मिल चुकी है। डबरा और भिंड भी इसमें शामिल है। वहीं साडा,ग्वालियर और मुरैना का तैयार किया जा रहा ज्वाइंट मास्टर प्लान 2020 तक पूरा कर लिया जाएगा। इस मास्टर प्लान के बाद व्यवस्थाएं बनाना सरल होगा- वीके शर्मा,ज्वाइंट डायरेक्टर, टाउन एंड कंट्री विभाग, ग्वालियर