ग्वालियर। हबीबगंज से नईदिल्ली के बीच चलने वाली शताब्दी एक्सप्रेस अब जल्द ही डबरा से मुरैना के बीच भी 150 से 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ने लगेगी। इस ट्रेन को तेज रफ्तार में दौड़ाने के लिए आरडीएसओ की टीम ने बुधवार को अपनी ट्रायल पूरी कर ली है। टीम अब अपनी रिपोर्ट उत्तर मध्य रेलवे के इलाहबाद स्थित जोनल मुख्यालय को सौंप देगी।

विदित है कि इस रेलवे ट्रैक पर ट्रेनों की स्पीड बढ़ाए जाने के लिए आरडीएसओ (रिसर्च डिजाइन स्टैंडर्ड आर्गनाइजेशन) लखनऊ की टीम पिछले 15 दिनों से ट्रायल का काम कर रही थी। इस टीम की ट्रायल बुधवार को पूरी हो गई है। जानकारों के अनुसार टीम ने डबरा से मुरैना के बीच ट्रेन को 150 से 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलाए जाने के लिए ट्रैक को सही पाया है। इस टीम की रिपोर्ट अब इलाहबाद जाएगी। इलाहबाद के अधिकारी भी एक बार जांच के लिए आएंगे। उसके बाद मामला फाइनल हो जाएगा। जानकारों के अनुसार आरडीएसओ टीम की रिपोर्ट को अहम माना जाता है।

इस टीम की रिपोर्ट के बाद अधिकारियों की ओके होते ही डबरा से मुरैना के बीच शताब्दी 150 से 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने लगेगी। साथ ही इस ट्रैक पर चलने वाली अन्य ट्रेनों की भी स्पीड बढ़ जाएगी। यहां यह उल्लेखनीय होगा कि आगरा से नईदिल्ली के बीच पहले ही ट्रैक हाईस्पीड हो चुका है। आगरा से नईदिल्ली के बीच ट्रेनों की रफ्तार बढ़ चुकी है।