फोटो 4 हरदा। मां की हत्या का आरोपित बेटा।

रुपए नहीं देने पर बेटे ने दराती मारकर की मां की हत्या, आरोपित गिरफ्तार

ग्राम पलासनेर की घटना, इलाज के दौरान हुई महिला की मौत

हरदा। नवदुनिया प्रतिनिधि

रुपयों की खातिर रिश्तों की मान मर्यादाओं को ताक पर रखकर एक बेटे ने अपनी मां पर कातिलाना हमला किया। बेटे ने पहले तो अपनी मां को पीटा। इसके बाद भी जब उसका दिल नहीं भरा तो उसने मां को दराती से गोद दिया। इसमें लहूलुहान हुई मां को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया। वारदात जिला मुख्यालय से करीब 7 किमी दूर ग्राम पलासनेर की है।

पुलिस के अनुसार शनिवार सुबह के तकरीबन 8 बजे ग्राम पलासनेर में रामदुलारी बाई पति मूलचंद पवार जाति राजपूत उम्र 75 साल से उसके लड़के उमेश पिता मूलचंद उम्र 42 ने खर्चे के लिए रुपए मांगे। 75 वर्षीय रामदुलारी बाई ने कांपते हुए कहा कि मैं इस उम्र में तेरी अयाशी के लिए कहां से रुपए लेकर आऊं। इस दौरान दोनों के बीच में हाथापाई शुरू हो गई। इसके बाद उमेश ने मां रामदुलारी बाई पर दराती से हमला कर दिया। जिससे महिला का सिर फट गया। इसके बाद भी उमेश का मन नहीं माना तो उसे अपनी मां को जोर से दीवार पर ढोक दिया। जब सिर में खून ज्यादा बहने लगा तो उमेश तत्काल मौके से फरार हो गया। चिल्लाने पर ग्रामीण भी एकत्रित हो गए। घटना की जानकारी मिलते ही रामदुलारी बाई को घायल अवस्था में उसके बड़े बेटे कैलाश ने जिला अस्पताल लाया। जहां डॉक्टरों ने तत्काल इलाज शुरू किया, लेकिन रामदुलारी बाई की मौत हो गई। इधर अस्पताल में डॉक्टरों और पुलिस ने तत्काल घटनाक्रम से एसपी, एसडीओपी, थाना प्रभारी को अवगत कराया। पुलिस ने आरोपित उमेश के खिलाफ धारा 302, 506 के तहत मामला दर्ज कर लिया। आरोपित को गिरफ्तार कर घटना में उपयोग की गई दराती को भी जब्त कर लिया। आरोपित ने अपनी मां की हत्या करने का गुनाह कबूल कर लिया। आरोपित को न्यायालय में पेश किया गया। जहां से उसे जेल भेज दिया गया।

राष्ट्रीय विधिक सेवा दिवस में दी न्याय की जानकारी

हरदा। नवदुनिया प्रतिनिधि

जिला न्यायाधीश शशिकला चंद्रा के मार्गदशन एवं अध्यक्षता में शनिवार को राष्ट्रीय विधिक सेवा दिवस का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ महात्मा गांधी की प्रतिमा पर फूल माल्यार्पण कर एवं द्वीप प्रज्जवलित कर जिला मध्यस्थता केन्द्र में ''राष्ट्रीय विधिक सेवा दिवस'' का आयोजन किया गया। इस अवसर पर न्यायाधीश केएस शाक्य, एवं पैरालीगल वालेंटियर की उपस्थिति में विधिक सेवा दिवस का आयोजन किया। जिला न्यायाधीश शशीकला चंद्रा द्वारा समस्त निःशुल्क जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को लिए जाने का अनुरोध किया गया। तहसील न्यायालय से लेकर सर्वोच्च न्यायालय तक विधिक सहायता जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा समाज के कमजोर वर्ग के लोगों को उपलब्ध कराई जाती है। पीड़ित प्रतिकर योजना के बारे में तथा महिला एवं बच्चो से संबंधित अपराधों के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्रदान की गई। श्री शाक्य द्वारा संचालित विभिन्न कार्यों से संबंधित मीडिएशन योजना, नेशनल लोक अदालत, जनउपयोगी लोक अदालत, अपराध पीड़ित प्रतिकर योजना, विधिक सहायता योजना, लीगल एड क्लीनिक योजना, मजिस्ट्रेट न्यायालय में विधिक सहायता योजना, ऐसी विभिन्न योजनाओं के संबंध में जानकारी प्रदान की गई।