इंदौर। अंगदान को लेकर शहर में अलग इतिहास रचा गया। अब तक तो शहर से दिल, लिवर आदि दूसरे शहरों में भेजकर लोगों को जीवनदान दिया जा रहा था, लेकिन इस बार इंदौर के लिए एक दिल सूरत आया।

सूरत के एक निजी अस्पताल में 47 वर्षीय मरीज भर्ती हुआ था, जिसे डॉक्टरों ने ब्रेनडेड घोषित कर दिया। उसका दिल शुक्रवार अलसुबह एयर टैक्सी से इंदौर लाया गया। इसके लिए सूरत में ग्रीन कॉरिडोर बना और इंदौर में एयरपोर्ट से सीएचएल अस्पताल तक के लिए ग्रीन कॉरिडोर बना।

अस्पताल में फोर्टिस मुंबई के डॉक्टरों की टीम के नेतृत्व में हार्ट ट्रांसप्लांट किया गया। शहर में 21 महीने के दौरान 23 बार अंगदान हो चुके हैं। यह पहला मौका है जब दूसरे शहर से आ रहे दिल का प्रत्यारोपण इंदौर में हुआ है।