इंदौर। नवरात्र के दौरान गरबा आयोजन में रात 10 बजे बाद लाउड स्पीकर और डीजे के इस्तेमाल पर हाईकोर्ट ने गेंद सरकार के पाले में डाल दी है। हाईकोर्ट ने आदेश दिया है कि याचिकाकर्ता अनुमति के लिए राज्य शासन के पास जाने के लिए स्वतंत्र है।

गौरतलब है कि गरबा आयोजन में रात 10 बजे बाद लाउडस्पीकर और डीजे बजाने को लेकर जिला प्रशासन ने सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन के पालन की बात कही थी। जिस पर हाईकोर्ट में याचिका दायर कर गरबों में 12 बजे तक लाउड स्पीकर और डीजे की अनुमति देने और समय बढ़ाने की मांग की गई थी।

हाईकोर्ट ने इस जनहित याचिका पर शनिवार को आदेश दिया। जस्टिस एससी शर्मा और जस्टिस वीरेंद्र सिंह की डिविजन बेंच ने अपने आदेश में कहा कि अदालत इस मामले में हस्तक्षेप नहीं कर सकती। याचिकाकर्ता चाहे तो इसके लिए राज्य शासन के पास जा सकता है। वो सरकार के पास जाकर इस तरह की अनुमति लाने के लिए स्वतंत्र है। लेकिन कोर्ट ने राज्य शासन को ताकीद की है कि कोई भी अनुमति देने के पहले वो मध्यप्रदेश हाईकोर्ट द्वारा पूर्व में दिए गए राजेंद्र कुमार वर्मा केस में जारी की गई गाइडलाइन को ध्यान में रखे और उसके बाद ही कोई फैसला ले।

अब इस मामले में याचिकाकर्ता को सरकार से ही अनुमति मिल सकेगी।