होशंगाबाद। ड्राइवर वीरू उर्फ वीरेंद्र की हत्या कर शव के टुकड़े करने वाला डॉ. सुनील मंत्री अब मानसिक रोगियों की तरह बर्ताव कर रहा है। बुधवार सुबह 10.30 बजे के करीब उससे पूछताछ की जा रही थी तो वह कभी हाथ जोड़ने लगता और कभी सिर खुजाने लगता। कभी रोता और कभी चुप हो जाता।

पुलिस ने उसे अदालत में पेश कर तीन दिन के रिमांड पर लिया है। पूछताछ के दौरान उसने अपनी पत्नी सुषमा की मौत को लेकर बड़ा खुलासा कि या है। उसने कहा है कि सुषमा को कोई बीमारी नहीं थी, बल्कि पेट दर्द होने के बाद उसे जो इंजेक्शन दिया था, उससे संक्रमण बढ़ने के कारण मौत हुई थी। उसका पीएम भी नहीं कराया गया था।

डॉ. सुनील मंत्री के बर्ताव को देखते हुए करीब दो दर्जन पुलिसकर्मियों के सुरक्षा घेरे में उसे जिला अस्पताल लाया गया। जहां मेडिकल विशेषज्ञ डॉ. सुनील जैन ने आरोपित डॉ. मंत्री का मेडिकल परीक्षण किया। जिसमें पाया गया कि ब्लडप्रेशर और शुगर लेवल बढ़ने तथा सोडियम बैलेंस गड़बड़ाने के कारण वह मानसिक रोगियों जैसी हरकतें कर रहा है। पूछताछ में आरोपित डॉ. सुनील मंत्री ने बताया कि वीरू शक के कारण उसे परेशान कर रहा था। वीडियो और ऑडियो वायरल करने की धमकी देने लगा था। इसी कारण उसकी हत्या कर दी।

जांच टीम भोपाल रवाना

एसपी अरविंद सक्सेना ने बताया कि आरोपित डॉ. मंत्री द्वारा पत्नी सुषमा की मृत्यु के संबंध में जानकारी देने के बाद एक विशेष टीम बनाकर जांच के लिए भोपाल भेजी है। जो हमीदिया अस्पताल में सुषमा के भर्ती दिनांक से लेकर मृत्यु दिनांक तक का रिकार्ड देखेगी। वहीं ड्राइवर वीरू के शव के टुकड़ों का डीएनए टेस्ट भोपाल के मेडिको लीगल संस्थान में कराया जाएगा।