-मुंबई में चार ऑपरेशन के बाद बदला जेंडर

इंदौर। कुछ दिन पहले तक वह घर की बिटिया थी, अब बेटा है। कभी उसके सपने लड़की की तरह थे, अब लड़के की तरह हैं। माता-पिता ने कभी उसे डोली में बैठाकर विदा करने की सोची थी, अब उसके लिए दुल्हन लाने की सोच रहे हैं। उसके संकल्प ने उसे नई देह दी है, 19 साल तक सिमरन रहने के बाद अब वह समर है।

इंदौर के सिल्वर ऑक्स कॉलोनी में रहने वाले व्यापारी मुजाल्दे परिवार की बेटी सिमरन की बचपन से ही ख्वाहिश थी कि वह लड़का बनकर पिता का काम संभाले। दो साल पहले उसके मन में जेंडर चेंज करवाने का ख्याल आया। माता-पिता से बातचीत की तो उन्हें थोड़ा अटपटा लगा। बाद में मान गए और मुंबई के लीलावती अस्पताल में इलाज शुरू हुआ।

पढिए : दो साल की उम्र में हाव-भाव बदला, दो माह पहले जेंडर

चार ऑपरेशन के बाद उसका जेंडर चेंज हुआ। रविवार को परिवार में 'पुत्र प्राप्ति का जश्न मनाते हुए नामकरण किया गया। परिवार के अनुसार समर का जेंडर चेंज करने कराने में लगभग 30 लाख स्र्पए लगे और डेढ साल ट्रीटमेंट चला। मां अनीता और पिता सरदारसिंह मुजाल्दे ने बेटी के सपनों का पूरा साथ दिया।