इंदौर, नगर प्रतिनिधि। लसूड़िया थाना क्षेत्र में रविवार देर रात अरंडिया बायपास पर वाणिज्यिक कर अधिकारियों की कार को ट्रक चालक ने टक्कर मार दी। इससे गाड़ी डिवाइडर से टकराकर पलट गई। टीम में शामिल दो कर्मचारी गाड़ी के अंदर फंस गए। गश्त कर रही लसूड़िया पुलिस की टीम मौके पर पहुंची और दोनों को गाड़ी से बाहर निकाला। फोन लगाकर एंबुलेंस को बुलाया और घायलों को अस्पताल पहुंचाया। टीम में शामिल सुरक्षाकर्मी को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया, जबकि ड्राइवर, टैक्स असिस्टेंट, सहायक आयुक्त व इंस्पेक्टर का इलाज चल रहा है। टीम कई दिनों से घूम-घूम कर वाहनों की चेकिंग कर रही थी। टीम को सूचना मिली थी कि भोपाल से एक ट्रक शहर की तरफ आ रहा है। उसमें जो सामान रखा है उसका टैक्स जमा नहीं किया गया है। टीम ने पहले चालक को हाथ देकर रोकने का प्रयास किया, लेकिन जब वह नहीं रुका तो टीम उसका पीछा करने लगी।

ओवरटेक करने के दौरान ट्रक चालक अधिकारियों की कार को टक्कर मारकर फरार हो गया। पुलिस के मुताबिक, मृतक रोहित (36) पिता कालूराम चावला निवासी भागीरथपुरा है। टीआई संतोष कुमार दूधी ने बताया कि घटना रात 12 से 1 बजे की बीच की है। वे अपनी टीम के साथ बायपास इलाके में गश्त कर रहे थे। इसी दौरान पता चला कि सड़क दुर्घटना में एक कार पलट गई है। वे मौके पर पहुंचे तो पता चला कि कार डिवाइडर से टकरा गई थी। गाड़ी के अंदर सवार दो लोग फंस गए थे। उन्होंने दोनांे को बाहर निकाला और एंबुलेंस को सूचना दी। कार सवार बाकी तीन लोग घायल हालत में बाहर पड़े थे। सभी अस्पताल पहुंचाया गया।

प्राथमिक पूछताछ में पता चला कि कार वाणिज्यिक कर विभाग की थी। उसमें सहायक आयुक्त आदित्यराज चौहान, ड्राइवर प्रवीण सांवलिया निवासी भागीरथपुरा, इंस्पेक्टर अविनाश चौहान निवासी धार, टैक्स असिस्टेंट मंसूर अली निवासी राऊ सहित मृतक शामिल था। कार्रवाई के लिए टीम का गठन 9 अप्रैल को किया गया था। टीम कार्रवाई करते हुए घर लौट रही थी। इसी बीच उनको सूचना मिली थी कि ट्रक टैक्स चोरी का माल लेकर बायपास से जा रहा है।

पांच पलटी खाई कार : ट्रक चालक को रोका तो उसने अधिकारियों की गाड़ी के अगले हिस्से को टक्कर मार दी। इससे गाड़ी 5 बार पलटी खाते हुए डिवाइडर से टकरा गई। टीम को धारा 68 के तहत गाड़ी चेकिंग और कार्रवाई का आदेश मिला था। घटना के बाद टक्कर मारने वाले ट्रक की नंबर प्लेट मौके पर ही गिर गई थी। पुलिस ने नंबर के आधार पर पता लगाया तो यह ट्रक महू के अर्जुन शाक्य का निकला। पुलिस उसे तलाश रही है।

कई वर्षों से कर रहा था नौकरी : मृतक रोहित के मामा देवेंद्र ने बताया कि भानजा वाणिज्यिक कर विभाग में कई वर्षों से अस्थाई कर्मचारी था और विभाग में सुरक्षाकर्मी की नौकरी करता था। एक साल पहले उसने प्रेम विवाह किया था। दो महीने का एक बेटा भी है। रोहित मां बादामबाई, पत्नी रेखा व छोटी बहन रितु के साथ रहता था।

दुर्घटना में घायलों में दो की हालत गंभीर

पुलिस के मुताबिक घायल मंसूरी और प्रवीण को चोईथराम अस्पताल में भर्ती किया गया है। मंसूरी की हालत गंभीर है। उसका आईसीयू में इलाज चल रहा है। पत्नी रशीदा ने बताया कि रविवार रात करीब 9 बजे पति से फोन पर बात हुई थी। तब पति ने बताया था कि वह अभी काम कर रहे हैं। रात तक घर लौट आएंगे। 8 अप्रैल से वे घर से बाहर थे। वहीं इंस्पेक्टर अविनाश मेडी स्क्वॉयर अस्पताल और आदित्यराज का बॉम्बे अस्पताल में इलाज चल रहा है। आदित्यराज की भी हालत गंभीर है।