इंदौर। इंदौर डीआईजी हरिनारायण चारी मिश्र के यातायात जागरुकता के लिए किए गए प्रयास को लिम्का बुक ऑफ रिकाॅर्ड में दर्ज किया गया है। ग्वालियर में एसपी रहते उन्होंने अनूठी पहल की थी, जिसमें 1 लाख से ज्यादा लोगों ने हिस्सा लिया था।

ग्वालियर में एक साल पहले पदस्थ रहे डीआईजी मिश्र ने जनवरी 2016 में ट्रैफिक के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए एक अभियान शुरू करवाया था। एक ही दिन एक साथ एक लाख एक हजार लोगो को ट्रैफिक नियम ना तोड़ने की शपथ दिलवाई थी। इसमें 75 से ज्यादा संस्थाओं ने हिस्सा लिया।

डीआईजी के अनुसार प्रदेश भर में सबसे ज्यादा युवाओं की मौत एक्सिडेंट में होती है। उन्हें इसके लिए जागरूक करना बहुत जरूरी है। ऐसे अभियान इंदौर में भी शुरू किए गए हैं। इंदौर में 30 ब्लेक स्पॉट्स चिन्हित किए गए हैं, जहां एक्सिडेंट होने के कारणों पर काम किया जा रहा है। पुलिस ध्यान रख रही है कि आगे वैसे हादसे दोबारा ना हो जिसमें पहले कई लोगों की मौत हो चुकी है।