इंदौर। पश्चिम बंगाल में डॉक्टर से हुई मारपीट की घटना का विरोध करते हुए सोमवार को मेडिकल कॉलेज से जुड़े अस्पतालों के डॉक्टरों के अलावा इंडियन मेडिकल एसोसिएशन से जुड़े डॉक्टर हड़ताल पर हैं। इसका व्यापर असर देखने को मिल रहा है। प्रदेश के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल में सुबह से ही ओपीडी में डॉक्टर नहीं मौजूद हैं। ऐसे में मरीज बिना इलाज के वापस लौट रहे हैं। आईएमए की इस हड़ताल में मेडिकल कॉलेज से जुड़े एमवाय अस्पताल के सीनियर कंसल्टेंट, जूनियर डॉक्टरों के अलावा टीबी अस्पताल, एमटीएच अस्पताल के डॉक्टर भी शामिल हैं। ऐसे में यहां मरीजों को इलाज नहीं मिल पा रहा है। इस बीच मरीजों की परेशानी को देखते हुए जरूर MY अस्पताल की ओपीडी में 8 और 9 नंबर कमरे में डॉक्टरों की ड्यूटी लगाई गई है।

हड़ताल के समर्थन में आज सुबह इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के इंदौर चैप्टर ने एक रैली निकाली। इस रैली में उन्होंने पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के साथ हुई मारपीट के खिलाफ विरोध जताते हुए न्याय की मांग की। वहीं पश्चिम बंगाल में डॉक्टर पर हमले पर जूनियर डॉक्टरों ने नुक्कड़ नाटक किया। इसके जरिए उन्होंने मरीज और डॉक्टरों के बीच विवाद की स्थिति को समझाने की कोशिश की।

हमीदिया अस्पताल में भी डॉक्टरों का प्रदर्शन

पश्चिम बंगाल में डॉक्टर पर हुए हमले के विरोध में भोपाल के हमीदिया अस्पताल के डॉक्टरों ने भी आज प्रदर्शन किया। वो डॉक्टरों को सुरक्षा प्रदान करने की मांग कर रहे थे। डॉक्टरों की हड़ताल की वजह से यहां भी मरीजों को इलाज नहीं मिल पाया।

जबलपुर के विक्टोरिया अस्पताल में भी डॉक्टर हड़ताल पर

आईएमए के देशव्यापी हड़ताल के समर्थन में विक्टोरिया अस्पताल के डॉक्टरों ने भी प्रदर्शन किया।

रतलाम में हेलमेट पहनकर डॉक्टरों ने किया इलाज

आईएमए की हड़ताल का पूरे मध्य प्रदेश में असर देखने को मिल रहा है। रतलाम में विरोधस्वरूप डॉक्टरों ने हेलमेट पहनकर मरीजों का इलाज किया। सेंधवा में बाबदड गांव से महिलाएं खून की जांच और उपचार के लिए आई, लेकिन डॉक्टर नहीं होने से परेशान होना पड़ा।

बड़वानी में आइएमए के आह्वान पर शासकीय व निजी डॉक्टर रहे हड़ताल पर। जिला अस्पताल में ओपीडी बन्द रही। इमरजेंसी सुविधाएं चालू रही। इस दौरान दवाई वितरण भी बंद रहा।

बता दें कि डॉक्टरों की हड़ताल की जानकारी मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने आदेश जारी कर सोमवार को सभी सरकारी अस्पताल के डॉक्टरों के अवकाश पर रोक लगा दी थी। आज सुबह सीएमएचओ प्रवीण जड़िया ने पीसी सेठी अस्पताल में निरीक्षण किया। इसके अलावा वो स्वास्थ्य विभाग के दूसरे अस्पतालों में भी जांच के लिए पहुंचे। डॉक्टरों की हड़ताल के मद्देनजर आज ओपीडी का समय दो घंटे बढ़ाकर सुबह सौ से शाम छह बजे तक किया गया है।

स्वास्थ्य मंत्री ने की डॉक्टरों से मुलाकात

उधर, स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने रविवार को आईएमए, जूनियर डॉक्टर, मेडिकल टीचर्स एसोसिएशन व अन्य संगठनों के प्रतिनिधियों से मुलाकात की थी। उन्होंने मरीजों के हित को लेकर हड़तान नहीं करने को कहा। साथ ही मुख्यमंत्री के साथ डॉक्टरों के प्रतिनिधिमंडल की एक बैठक आयोजित कर अपनी बात रखने का आश्वासन दिया था।