इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। जब उमा भारती मुख्यमंत्री थी, तब मैं उनके साथ बैंगलुरु गया था। हमने वहां पर आए इंटरनेशनल मेहमानों को मध्यप्रदेश में आने का न्यौता दिया था। उन्होंने कहा था कि हम आपके प्रदेश में नहीं आएंगे। क्योंकि आपके यहां इंटरनेशनल फ्लाइट ही नहीं है। यह कहना है प्रमुख सचिव अशोक बरनवाल का।

शनिवार को ब्रिलियंट कन्वेशन सेंटर में आयोजित कनेक्ट एमपी कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रमुख सचिव ने कहा कि हमें प्रदेश में जल्द से जल्द सीधी इंटरनेशनल कनेक्टिविटी शुरू करना है। देश के प्रमुख एयरपोर्ट कंजेक्शन की समस्या से जूझ रहे है। अब उनके सामने टीयर टू सिटी के एयरपोर्ट ही प्रमुख विकल्प है इसलिए इंदौर को तैयार करना चाहिए।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए एयरपोर्ट डायरेक्टर अर्यमा ने कहा कि हम इंदौर से सीधी फ्लाइट शुरू करने के लिए प्रयासरत है। इसके लिए सुविधाएं बढाना होंगी। हम 1 अप्रैल से एयरपोर्ट को 24 घंटे खुला रखेंगे। अपनी तैयारी को परखने के लिए 25 मार्च से गुवाहाटी, चंडीगढ़, जोधपुर, जम्मू वाया दिल्ली और पटना के लिए नई उड़ान शुरू की जा रही है। इसी के साथ इंदौर में आने जाने वाली फ्लाइट की संख्या 66 हो जाएगी। कार्यक्रम में एयरपोर्ट अथॉरटी ऑफ इंडिया, कंफेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्रीज के पदाधिकारी व विमान कंपनियों के प्रतिनिधि मौजूद थे।

2018 तक इंटरनेशनल फ्लाइट

इधर, एयर इंडिया के जनरल मैनेजर मार्केट प्लानिंग मेलविन डिसिल्वा ने बताया कि इंदौर एयरपोर्ट से सीधी इंटरनेशनल उड़ान शुरू करने का प्रयास किया जा रहा है। एयर इंडिया के पास सभी सर्वे हैं। हम अपने स्तर पर तैयारी कर रहे हैं। जल्द ही घोषणा की जा सकती है। 2018 के अंत तक इंदौर से इंटरनेशनल फ्लाइट शुुरू की जा सकती है।

जो कंपनी पहला विमान शुरू करेगी, उसे देंगे छूट

एक मेहमान ने कहा कि इंदौर से जो पहली फ्लाइट शुरू करेगा, उसे ज्यादा तैयारी करना होगा। जो बाद में आएगा, उसे सब तैयार मिलेगा। इसलिए पहली फ्लाइट शुरू करने वाली एयरलाइंस को एयरपोर्ट शुल्क से माफी मिलना चाहिए। इस पर अर्यमा सान्याल ने कहा कि मैं इस बारे में मुख्यालय में बात करूंगी।

इंदौर से अंतरराष्ट्रीय उड़ान क्यों

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि इंदौर से इंटरनेशनल फ्लाइट क्यों? इस पर सभी वक्ताओं ने अपने अपने विचार रखे।

- इंदौर मध्यप्रदेश का प्रमुख शहर

- पीथमपुर के सेज में 1826 इडंस्ट्रीज, इन कपंनियों में 51000 करोड़ का निवेश

- इंदौर फार्मा का हब

- हर साल 5 बिलियन टेबलेट्स बनती है

- इंदौर एयरपोर्ट देश का पांचवां सबसे बड़ा कार्गो भेजने वाला एयरपोर्ट

- टूरिज्म को लेकर बेहतर संभावनाएं