इंदौर। पांच हजार करोड़ रुपये के लोन घोटाले में इंदौर के सीए अनूप गर्ग को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गिरफ्तार कर लिया है। शनिवार को दिल्ली से आए अधिकारियों ने कार्रवाई को अंजाम दिया। गुजरात की स्टर्लिंग बॉयोटेक लोन घोटाले में गर्ग आरोपी है। समूह की कंपनियों के जरिए सार्वजनिक क्षेत्र की बैंकों से हजारों करोड़ का लोन लेकर हड़पने के मामले ईडी जांच कर रही है। सीबीआइ भी केस दर्ज कर चुकी है।

दिल्ली ईडी के अधिकारियों ने गर्ग को धार कोठी स्थित दफ्तर से गिरफ्तार किया। बीते महीने भी ईडी की टीम जांच के लिए गर्ग के दफ्तर पहुंची थी। स्टर्लिंग ग्रुप की कंपनियों पर आंध्रा बैंक की अगुवाई वाले बैंक कंर्सोटियम के जरिए पांच हजार करोड़ रुपये का लोन लिया गया था। लोन मंजूर कराने में इंदौर के सीए की अहम भूमिका रही।

गर्ग दरअसल लोन मंजूर करने वाली आंध्र बैंक के डायरेक्टर रह चुके हैं। ईडी की जांच में तथ्य मिले थे कि गर्ग ने स्टर्लिंग ग्रुप का करोड़ों रुपये का लेन-देन भी हुआ था। शैल कंपनियों के आधार पर इस लोन की हेराफेरी की गई। स्थानीय स्तर पर ईडी ने गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए कहा कि बीते दिनों जांच के लिए समन जारी कर गर्ग को दिल्ली बुलाया जाता रहा है। जांच में ठोस तथ्य मिलने व गर्ग द्वारा सहयोग नहीं करने के बाद गिरफ्तारी की कार्रवाई की गई। 31 दिसंबर तक स्टर्लिंग ग्रुप पर बैंक लोन के पांच हजार 383 करोड़ रुपये बकाया हैं। इसमें कंपनी के डायरेक्टर समेत देशभर के अलग-अलग लोगों पर मामला दर्ज है।