इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। फांसी लगाने वाली सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता और उसके गिरोह पर सराफा व्यापारी को ब्लैकमेल करने का आरोप है। एएसपी (पश्चिम) मनीष खत्री के मुताबिक महिला ने एक महीने पहले आरोपित लाखन, सुनील, राजा सांखला और नितिन के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म का केस दर्ज करवाया था। घर से बरामद सुसाइड नोट में लाखन को निर्दोष बताया गया है। पुलिस को एक शिकायत मिली है, जिसमें दो प्रॉपर्टी ब्रोकर, एक टोस्ट व्यापारी सहित एक अन्य युवक को भी गिरोह में शामिल होना बताया गया है।

आरोप है कि संदेहियों ने महिला का इस्तेमाल कर कई रसूखदारों का अश्लील वीडियो बनाया और ब्लैकमेल किया है। 13 अप्रैल को इसी गिरोह ने सराफा व्यापारी से 25 लाख की मांग की और 18 लाख वसूले। गिरोह ने कॉलोनाइजर वीरेंद्र गुप्ता को फंसाने का षड्यंत्र भी रचा था लेकिन पत्रकार अजय जायसवाल ने महिला को समझाया और झूठी शिकायत करने से रोक दिया। एएसपी के मुताबिक शिकायत में संदेहियों के मोबाइल नंबर भी लिखे हैं। पुलिस कॉल डिटेल के आधार पर जांच कर रही है।

महिला का एक ऑडियो भी सामने आया है, जिसमें वह पत्रकार अजय के संबंध में बातचीत कर रही है। अजय ने ट्रेन के सामने कूदकर आत्महत्या कर ली थी। ऑडियो में महिला शुभम नामक युवक से विवाद का जिक्र कर रही है। आत्महत्या के एक दिन पूर्व अजय और शुभम का विवाद हुआ था। अजय शुभम और महिला को लेकर बहुत तनाव में था। महिला ने सफाई देते हुए कहा कि वह अजय को निजी वीडियो भी वाट्सएप पर भेज देती थी। बताया जाता है कि उसने तीन महीने पूर्व ग्वालटोली में भी एक बुजुर्ग से 80 हजार रुपए वसूले थे।