Naidunia
    Saturday, April 21, 2018
    PreviousNext

    अब स्कूलों में गुड टच-बैड टच का भी पाठ पढ़ेंगे बच्चे

    Published: Tue, 13 Mar 2018 03:59 AM (IST) | Updated: Tue, 13 Mar 2018 11:57 AM (IST)
    By: Editorial Team
    good and bad touch 2018313 115735 13 03 2018

    इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। लगातार छेड़छाड़ का शिकार हो रहे मासूमों को अब खुद अपनी सुरक्षा के गुर सिखाए जाएंगे। छोटे बच्चे होने से वे कराटे या मारपीट कर खुद को बचा नहीं सकते लेकिन गंदी हरकत को समझने से शोर मचाकर भीड़ जरूर इकट्ठा कर सकते हैं। इसी मकसद से अब प्रत्येक स्कूल में बच्चों को गुड टच और बैड टच का पाठ पढ़ाया जाएगा।

    हाल ही में दो बच्चियों के साथ दुष्कर्म की कोशिश की घटना हुई थी। पहली विजय नगर में पांच साल की बच्ची से होटल के शेफ ने गंदी हरकत की। वहीं ट्रेजर आईलैंड के गेम जोन में नौ साल की बच्ची से हरकत की गई। बच्चों को दरिंदगी से बचाने के लिए अब बाल कल्याण समिति ने अगले शिक्षा सत्र से सभी स्कूलों में जाकर बच्चों को गुड और बैड टच का प्रशिक्षण देने का फैसला किया है।

    यह प्रशिक्षण तीन से लेकर 16 साल तक के बच्चों को दिया जाएगा ताकि वह सही-गलत स्पर्श को महसूस कर सके। बच्चों को इस तरह की फिल्म दिखाई जाएगी। यह अभियान सरकारी, प्राइवेट सभी स्कूलों में चलेगा। हालांकि कुछ स्कूल खुद भी बच्चों को जागरूक कर रहे हैं। गौरतलब है कि ट्रेजर आईलैंड में हुई घटना में नौ साल की बच्ची ने स्कूल में समझाए गुड टच बैड टच से ही खुद को बचाया था।

    11 हजार लड़कियों को दिया प्रशिक्षण

    बाल कल्याण समिति की अध्यक्ष माया पांडे ने बताया कि अब तक हम अलग-अलग क्षेत्रों में गुड और बैड टच का प्रशिक्षण दे रहे हैं। अब स्कूलों में भी अभियान चलाने की आवश्यकता है। शिक्षा विभाग के सहयोग से बच्चों को गुड टच बैड टच की जानकारी देंगे। इससे बच्चे गंदी हरकत को समझ सकेंगे। अब तक हम अल्पसंख्यक समुदाय की 11 हजार लड़कियों को प्रशिक्षण दे चुके हैं।

    ऐसे समझें बैड टच

    - बार-बार बिना काम के कोई व्यक्ति घर आए या बच्चों के साथ जबरदस्ती खेलने की कोशिश करे।

    - टॉफी, बिस्किट या खिलौनों का लालच देकर कोने में ले जाकर छूने की कोशिश करे।

    - गोदी में लेने के बहाने बार-बार शरीर के ऊपर से नीचे तक स्पर्श करे।

    - बच्चों द्वारा प्राइवेट पार्ट में दर्द होने की शिकायत को गंभीरता से लें।

    हरकत करें तो शोर मचाएं

    - कोई व्यक्ति छाती, पैर, चेहरे, पीठ के निचले हिस्से को छूने की कोशिश करे तो शोर मचाएं।

    - जबरदस्ती करने वाले को कोहनी से मारकर गिरा दें।

    - जबरन छूने वाले व्यक्ति के हाथ पर नाखून चुभो दें।

    - रिश्तेदार, परिचित या अनजान व्यक्ति बार-बार हरकत करे तो माता-पिता को जरूर बताएं।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें