विपिन अवस्थी, इंदौर। रेलवे स्टेशन व ट्रेन में टिकट जांचने वाले टिकट कलेक्टर (टीसी) अब पेटीएम( Paytm) व गूगल-पे( Google pay) से भी चालान की राशि वसूल सकेंगे। देश में पहली बार रतलाम रेल मंडल यह प्रयोग करने जा रहा है। मंडल ने कुछ टीसी को इसके लिए अधिकृत भी किया है, जिसमें मुख्य रूप से सिविल ड्रेस में चलने वाले टीसी शामिल हैं। धीरे-धीरे यह सभी पर लागू कर दिया जाएगा।

वर्तमान में स्मार्टफोन का उपयोग अधिकतर लोग करने लगे हैं। 80 फीसदी रिजर्वेशन भी ऑनलाइन होते हैं। कई बार जब टिकट की जांच होती है तो बेटिकट पकड़े गए कुछ यात्री रुपए न होने को लेकर बहानेबाजी करते हैं। ऐसे में कई बार उन्हें छोड़ दिया जाता है, उनके पास राशि तो होती है, लेकिन वे पेटीएम व गूगल-पे पर ट्रांसफर करने की बात करते हैं। इसे देखते हुए रतलाम मंडल ने प्रयोग के तौर पर यह पहल शुरू की है, जिससे चालान की वसूली सुचारु हो सके।

ऐसे करेंगे काम

मंडल ने जिन टीसी को पेटीएम व गूगल पे से राशि वसूलने के लिए अधिकृत किया है, उन टीसियों के मोबाइल पर पेटीएम व गूगल-पे ऐप डाउनलोड रखेंगे। बिना टिकट पकड़े जाने वाले यात्री से चालान की राशि वसूलेंगे। यदि कोई राशि देने से मना करता है तो उससे पूछेंगे कि नकद जमा नहीं करना है तो पेटीएम या गूगल-पे कर दो। यदि वह राजी हो तो उससे अपने नंबर पर राशि ट्रांसफर करा लेंगे और उतने का चालान भी दे सकेंगे। इससे राशि देने और लेने वाले दोनों के पास ट्रांजेक्शन होगा, जिससे टीसी किसी प्रकार का फर्जीवाड़ा नहीं कर सकते। दिन भर में जो राशि टीसी वसूलेंगे, उसे मुख्यालय के पेटीएम अकाउंट में ट्रांसफर कर सकेंगे।

टीसी को नहीं दे सकते स्वाइप मशीन

डीआरएम का कहना है कि सभी टीसी को स्वाइप मशीन देना मुनासिब नहीं है। जितनी मशीनें खरीदेंगे, उसके लिए बोर्ड से बजट लेना होगा। पेटीएम व गूगल-पे पर ट्रांजेक्शन की सुविधा स्थानीय स्तर पर की जा रही है। स्वाइप मशीन लेकर चलना भी मुश्किल है, उसमें चार्जिंग की दिक्कत होती है। यदि यात्री से स्वाइप मशीन से ट्रांजेक्शन करवाते हैं तो उसकी अतिरिक्त राशि भी कटती है। साथ ही रेलवे को भी उसका महीने का किराया देना पड़ेगा, जो बैंक तय करती है।

प्रयोग कर रहे हैं

कुछ टीसी को पेटीएम और गूगल पे से राशि वसूलने के लिए कहा है, वे अपने पेटीएम या गूगल पे पर दिन भर में जो राशि वसूली करेंगे, ड्यूटी खत्म होने के बाद वे उतने रुपए चालान से मिलाकर वे मुख्यालय के पेटीएम व गूगल पे अकाउंट में ट्रांसफर कर सकेंगे।

-आरएन सुनकर, डीआरएम, रतलाम मंडल