इंदौर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोहरा समाज के धर्मगुरु डॉ. सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन की वाअज में शामिल हुए। यहां सैफी नगर मस्जिद में उन्होंने धर्मगुरु सैयदना से मुलाकात की। उन्होंने यहां सैयदना के साथ मरसिये नोहा इमाम हुसैन के पढ़ा। मोदी पहले प्रधानमंत्री हैं जो सैयदना की वाअज में शामिल हुए।

प्रधानमंत्री ने इस मौके पर कहा कि सैयदना ने अपने संबोधन में कहा है कि कि स्वच्छता दिल की और मन की भी करनी है। इस आयोजन को भी स्वच्छता से जोड़ा गया है, इस पूरे कार्यक्रम को प्लास्टिक फ्री बनाया गया है। इसमें से निकलने वाले कचरे को रिसाइकल कर खाद बनाया जा रहा है। जिसे किसानों को मुफ्त में बांटा जाएगा। मेरा देश के सभी स्वच्छाग्रहियों से आग्रह है कि इस कार्यक्रम से सबक लेकर ही काम करें।

सैयदना साहब ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का तहेदिल से स्वागत किया। पीएम मोदी एयरपोर्ट से सीधे सैफी नगर स्थित बोहरा समाज की सबसे बड़ी मस्जिद पहुंचे। जैसे ही पीएम का काफिला मस्जिद पहुंचा, खुद डॉ. सैयदना उन्हें लेने दरवाजे तक आए। बेहद गर्मजोशी से उन्होंने पीएम मोदी को गले लगाकर स्वागत किया।

अपने संबोधन में डॉ. सैयदना ने कहा कि यहां हम अपने वतन हिंदुस्तान में सुकून में हैं। यहां गुजरात, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और राजस्थान में हमारे धर्मस्थल अनमोल मोती की तरह है। सैयदना साहब ने समाजजनों को भाईचारे का संदेश दिया और कहा कि देश की तरक्की में योगदान दें। इसके साथ ही शिवराज सिंह की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने मेजबान और मेहमान के रूप में भूमिका निभाई। उन्होंने प्रधानमंत्री को स्वच्छता अभियान और मेक इन इंडिया के लिए शुभकामनाएं दी। डॉ. सैयदना ने कहा कि हिंदुस्तान तरक्की करे और प्रगित व प्रेम का ये पैगाम पूरी दुनिया में जाए। डॉ. सैयदना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने पिता के संबंधों की याद दिलाई। उन्होंने कहा कि सभी मजहब प्रेम करना सिखाते हैं। डॉ. सैयदना ने पीएम मोदी को जन्मदिन की अग्रिम बधाई दी।

देश व मातृभूमि से प्रेम बोहरा समाज की पहचान - पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि अशरा मुबारक के इस पवित्र अवसर पर भी आपने मुझे यहां आने का मौका दिया, इसके लिए बहुत आभार। उन्होंने कहा कि इमाम हुसैन के पवित्र संदेश को आपने अपने जीवन में उतारा है और दुनिया में उनका पैगाम पहुंचाया। इमाम हुसैन अमन और इंसाफ के लिए शहीद हो गए थे। उन्होंने अन्याय, अहंकार के विरुद्ध अपनी आवाज बुलंद की थी। उनकी ये सीख जितनी तब महत्वपूर्ण थी उससे अधिक आज की दुनिया के लिए ये अहम है। हम पूरे विश्व को एक परिवार मानने वाले, सबको साथ लेकर चलने की परंपरा का मानने वाले लोग हैं। हमारे समाज की, हमारी विरासत की, यही शक्ति है जो हमें दुनिया के दूसरे देशों से अलग करती है।

उन्होंने कहा कि मुझे खुशी है कि बोहरा समाज पूरे विश्व को भारत की वसुदैव कुटुंबकम की ताकत बता रहा है। मैं दुनिया में जहां भी जाता हूं, शांति और विकास के लिए हमारे समाज का जो योगदान है उसकी बातें में बताता हूं। शांति, सद्भावना, सत्याग्रह और राष्ट्रभक्ति के प्रति बोहरा समाज की भूमिका हमेशा अहम रही है। अपने देश से अपनी मातृभूमि के प्रति प्रेम की सीख सैयदना साहब देते रहे हैं।

उन्होंने हमें यह सीख दी कि हमें देश के लिए कैसे जीना चाहिए। इसके पहले ताहेर सैयदना साहब ने गांधीजी के साथ मिलकर इन मूल्यों को निभाने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। दोनों के बीच मुलाकात ट्रेन के अंदर हुई थी, इसके बाद वे लगातार संपर्क में बने रहे। पीएम ने कहा आपने मुझे राष्ट्रकल्याण के लिए अधिक शक्ति प्रदान करने के लिए आशीर्वाद दिए।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमें अपने अतीत पर गर्व है, वर्तमान पर विश्वास है और उज्जवल भविष्य का आत्मविश्वास है। बोहरा समाज के साथ मेरा भी रिश्ता बहुत ही पुराना है। मेरा सौभाग्य है कि आपका स्नेह मुझ पर हमेशा रहा। गुजरात का शायद ही कोई गांव हो जहां बोहरा व्यापारी नहीं मिलता हो। मैं जब मुख्यमंत्री था तब कदम-कदम पर बोहरा समाज ने साथ दिया। आपका यही अपनापन मुझे आज यहां खींच लाया है।

पीएम ने कहा कि 25 सितंबर से आयुष्मान भारत योजना शुरू हो रही है। ये योजना भारत देश के करीब-करीब 50 करोड़ गरीब भाई-बहनों के लिए संजीवनी बनकर आई है। इसके तहत एक साल में 5 लाख तक का मुफ्त इलाज सुनिश्चित होगा। स्वच्छ भारत अभियान शुरु भले ही सरकार ने किया हो, लेकिन आज इस अभियान को देश की 125 करोड़ जनता चला रही है। गांव-गांव, गली-गली में स्वच्छता के प्रति एक अभूतपूर्व आग्रह पैदा हुआ है। चार वर्ष पहले तक जहां देश के 40% घरों में ही टॉयलेट थे आज ये दायरा 90% से भी अधिक हो गया है।

उन्होंने कहा कि आज हम जिस इंदौर शहर में जुटे हैं, ये तो स्वच्छता के इस आंदोलन का अगुवा है। इंदौर निरंतर स्वच्छता के पैमाने पर देशभर में नंबर वन रहा है। इंदौर ही नहीं भोपाल ने भी इस बार कमाल किया है। एक प्रकार से पूरे मध्य प्रदेश के मेरे युवा साथी, एक-एक जन इस आंदोलन को गति दे रहे हैं।

'स्वच्छता ही सेवा’ पखवाड़ा

पीएम मोदी ने कहा कि 15 सितंबर से 2 अक्टूबर गांधी जयंती तक पूरे देश में ' स्वच्छता ही सेवा’ पखवाड़ा' चलाया जाएगा। मैं खुद देश के स्वच्छाग्रहियों, समाज में स्वच्छता के प्रति जनजागरण करने वाले आप जैसे नागरिकों, धर्मगुरुओं, कलाकारों, उद्यमियों, यानि समाज के हर वर्ग के लोगों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बातचीत करुंगा।

पीएम ने कहा कि आज यहां दाऊदी बोहरा समाज और मध्यप्रदेश के सभी लोगों से स्वच्छता अभियान से जुड़ने की बात करने आया हूं। आपमें से कई लोग व्यापार से जुड़े हैं, नियम और कायदे में रहते हुए व्यापार कैसे किया जाता है, आपने इसकी सीख दी है। ईमानदारी, सच्चाई और निष्ठा के साथ व्यापार कैसे चलता है आप सबने इसे साबित किया है। देश का व्यापारी और कारोबारी अर्थव्यवस्था की रीढ है। वो देश में रोज़गार पैदा करने वाली महत्वपूर्ण ईकाई है उसको जितना प्रोत्साहन संभव है दिया जा रहा है। लेकिन ये भी सच है कि पांचों अंगुलियां एक समान नहीं होतीं। हमारे बीच से ही ऐसे लोग निकलते हैं जो छल को ही कारोबार मानते है। बीते 4 वर्षों में सरकार ये साफ संदेश देने में सफल हुई है कि जो भी हो वो नियमों के दायरे में हो।

दुनिया में जिस प्रकार प्राचीन भारत की चमक थी, आज न्यू इंडिया को वो सम्मान देने का सौभाग्य हमें मिला है। देश के नव निर्माण के लिए हम निरंतर मिलकर आगे बढ़ते रहेंगे, इसी विश्वास के साथ मैं अपनी बात समाप्त करता हूं।