इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। 18 साल बाद राहु सिंह से कर्क राशि और केतु कुंभ से मकर राशि में प्रवेश करेगा। यह प्रवेश 17-18 अगस्त की रात 2.39 बजे होगा। इस बदलाव से कर्क और मकर के जातक विशेष रूप से प्रभावित होंगे जबकि सिंह और कुंभ राशि वालों के लिए लाभ के योग बन रहे हैं। दोनों ग्रह इन राशियों में 6 मार्च 2019 तक रहेंगे।

ज्योतिर्विद् श्यामजी बापू के अनुसार कर्क राहु के शत्रु चंद्रमा की राशि है। मकर केतु के मित्र शनि की राशि है। राहु और केतु को ज्योतिष में छाया ग्रह माना जाता है। ये दोनों उल्टे चलते हैं और 18 महीनों में राशि बदलते हैं। यह बदलाव वृषभ, कन्या, वृश्चिक, कुंभ, मीन वालों के लिए शुभ रहेगा जबकि मेष, मिथुन, कर्क, सिंह, तुला, धनु और मकर राशि वालों की परेशानियां बढ़ सकती है।

पं. ओम वशिष्ठ के अनुसार यह बदलाव शुभ और अशुभ दोनों प्रभाव देता है। इसका असर देश की सीमाओं के साथ आपदा के रूप में भी देखने को मिलता है। इसके चलते देश की सीमाओं पर तनाव बढ़ने के साथ दुनिया के दक्षिण और पश्चिम हिस्सों में महत्वपूर्ण बदलाव दिखाई दे सकते हैं।