अरविन्द शर्मा, इटारसी। उम्र भर रेलवे ट्रैक के मेंटनेंस की कठिनाई भरी ड्यूटी में जुटे रहने वाले गैंगमेन-खलासियों के लिए यह खबर किसी ख्वाब से कम नहीं होगी, खबर यह है कि रिटायरमेंट से पहले इन रेल कर्मचारियों को विदेश यात्रा का मौका मिलेगा।

यात्रा इसलिए भी खास रहेगी कि सैर का 60 फीसदी खर्च स्टॉफ बेनीफिट कमेटी वहन करेगी, सिर्फ 40 फीसदी खर्च रेलकर्मी को वहन करना होगा। यह बड़ा फैसला वेस्ट सेन्ट्रल रेलवे की जोनल स्टॉफ वैनीफिट कमेटी की बैठक में हुआ है। कमेटी मई-जून में चयनित रेलकर्मियों को मॉरीशस और सिंगापुर की हवाई यात्रा और सैर कराएगी।

इन कर्मचारियों को मिलेगा लाभ

2400 ग्रेड पे पर काम करने वाले खलासी-गैंगमेन एवं इस कैडर के अन्य कर्मचारी जिनकी सेवानिवृति होने वाली है, उन्हें कमेटी विदेश यात्रा कराएगी। इस योजना को देश में दूसरे नंबर पर लागू करने वाला जोन पश्चिम मध्य रेलवे है, सबसे पहले नार्दन रेलवे में विदेश यात्रा की योजना लागू की गई है।

कमेटी का मानना है कि ठंडी, गर्मी या बारिश हर मौसम की प्रतिकूलता के बावजूद बेहद ईमानदारी के साथ ग्रुप डी स्टॉफ अपनी ड्यूटी करता है, इनकी सतर्कता से ही सुरक्षित रेल यात्रा हो पाती है, इन रेलकर्मियों को जीवन भर कहीं अच्छी जगह घूमने का अवसर नहीं मिलता, न ही इनकी आर्थिक स्थिति इतनी मजबूत होती है।

कई बार इन्हें परिवार के साथ बिताने के लिए पर्याप्त अवकाश तक नहीं मिल पाता, इस वजह से अधिकांश रेलकर्मियों का जीवन संघर्ष में ही बीत जाता है, ऐसे कर्मचारियों की रेलवे सेवा को यादगार बनाने के लिए यह निर्णय लिया गया है। कमेटी भविष्य में अन्य ग्रेड पे के रेलकर्मियों को भी इसी तर्ज पर विदेश यात्रा का मौका देने पर विचार कर रही है। चयनित रेलकर्मियों को जल्द ही वीजा-पासपोर्ट तैयार रखने को कहा जाएगा।

चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को रेलवे कराएगा विदेश यात्रा

कमेटी की जोनल मीटिंग में चतुर्थ श्रेणी के रेलकर्मियों को रिटायर्ड होने से पहले 60 फीसदी खर्च पर विदेश यात्रा का मौका दिया जाएगा। नार्दन रेलवे के बाद पमरे दूसरा जोन है जो विदेश यात्रा कराएगा। भविष्य में अन्य ग्रेड पे वाले रेलकर्मी भी विदेश दौरे पर जाएंगे।

केके शुक्ला, मुख्यालय सदस्य केन्द्रीय कर्मचारी कल्याण हित निधि