इटारसी। 15 फरवरी को रेलवे इंस्टीट्यूट मैदान पर होने जा रही पीएम नरेन्द्र मोदी की सभा को लेकर सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट हो गई हैं। जिला पुलिस के साथ आरपीएफ-जीआरपी भारी भीड़ आने की संभावना को लेकर सुरक्षा च्रक में किसी तरह की चूक न होने के पुख्ता इतंजाम कर रही हैं।

दरअसल सभास्थल चारों ओर से रेलवे ट्रैक से घिरा हुआ है, यहां पहुंचने के लिए पुरानी इटारसी, जुझारपुर बायपास, 12 बंगला रोड एवं रेलवे फुट ओवरब्रिज के अलावा कहीं से रास्ता नहीं है। सभा में करीब सवा लाख लोगों के पहुंचने की संभावना को देखते हुए आशंका है कि उत्साह में लोगों की भारी भीड़ रेलवे ट्रैक क्रास कर सभास्थल पर पहुंचेगी। अमृतसर हादसे से सबक लेते हुए सुरक्षा एजेंसियां सभास्थल ओर स्टेशन के अलावा आउटर एरिया में भी तैनात रहेंगी। यहां अतिरिक्त जवान तैनात किए जाएंगे।

उत्साह में बेकाबू होती है भीड़

अफसरों का कहना है कि कई बार अपने नेता को देखने-सुनने के लिए आने वाली भीड़ बेकाबू हो जाती है, ऐसे में लोग खतरे को नजरअंदाज करते हैं। यही वजह है कि रेलवे ट्रैक से घिरे सभास्थल तक जाने की जल्दबाजी में लोग लापरवाही कर सकते हैं, इस वजह से आउटर पर फोकस किया जाएगा। जरूरत पड़ी तो ट्रेनों को इमरजेंसी ब्रेक किया जा सकता है।

ऐसे होगी सुरक्षा जांच

सभा फाइनल होते ही आरपीएफ डॉग स्कवाड एवं 8-8 घंटे के शेड्यूल में 18 जवान ट्रेनों एवं प्लेटफार्मो पर यात्रियों एवं लगेज की चेकिंग कर रहे हैं।

- सभा के दौरान किसी भी तरह के सांकेतिक विरोध-प्रदर्शन, नारेबाजी की आशंका को लेकर विपक्षी पार्टियों की हर गतिविधियों की टोह ली जा रही है।

प्रदेश संगठन तय करेगा

सभास्थल एवं पूरे इवेंट की तैयारियों का जिम्मा हमारा प्रदेश संगठन तय कर रहा है, हमारा प्रयास तो यह है कि लक्ष्य से ज्यादा लोग पीएम मोदी जी को सुनने पहुंचे, और पूरा कार्यक्रम सफल रहे। संगठन एवं विधायकों के सहयोग से हम ऐतिहासिक सभा करने का प्लॉन कर रहे हैं।

राव उदय प्रताप सिंह, सांसद।

आउटर पर फोकस

सभा में भारी भीड़ आने की संभावना है। मुख्य प्रवेश द्वारों के अलावा शार्टकट के चक्कर में लोग आउटर एरिए से लाइन क्रास कर वहां पहुंचेंगे, इसकी आशंका को लेकर आउटर पर विशेष फोकस रहेगा। इस दौरान आने वाली ट्रेनों पर भी नजर रखेंगे, जिससे किसी तरह की अनहोनी न हो और सुरक्षा इतंजाम बेहतर और सुविधाजनक रहें।

एसपी सिंह, थाना प्रभारी आरपीएफ।