किसी मुद्दे को समझने के लिए किताबें पढ़ें, गूगल नहीं

भोपाल। नवदुनिया रिपोर्टर

यंग थिंकर्स फोरम ने रविवार को विश्व संवाद केंद्र में 'मिथक से तथ्य निकालने की कला' विषय पर जे. साईं दीपक के साथ संवाद सत्र का आयोजन किया,जिसमें अलग-अलग विश्वविद्यालय के छात्रों ने हिस्सा लिया। छात्रों से बात करते हुए जे. साईं दीपक ने पढ़ने की जरूरत पर जोर डालते हुए कहा आज के युवा तत्काल जवाब पाने के लिए गूगल पर जाते हैं। किताबों की तरफ जाना कम कर दिया है, आज अगर आप सचमुच किसी मुद्दे को समझना चाहते हैं तो आपको किताबें ही पढ़नी पढ़ेंगी। उन्होंने एक से ज्यादा भाषाएं सीखने और वास्तविक घटनाओं पर आधारित किताबों को पढ़ने पर जोर दिया। जे.साईं ने कहा की सोशल मीडिया पर लिखते समय याद रखें कि आप सिर्फ अपनी बात नहीं कर रहे, बल्कि किसी विचारधारा का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं इसलिए अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल न करें। उन्होंने कहा कि अगले चार महीने बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण रहने वाले हैं, सोशल मीडिया पर भ्रामकता फैलाने की कोशिशें होंगी इसलिए अगर आप किसी विषय पर जानकारी रखते हैं तो उस विषय पर जरूर लिखें,ताकि लोगों तक सही जानकारी पहुंचे।

इतिहास की किताबों की प्रमाणिकता पर पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा की गीता प्रेस गोरखपुर, स्वामी विवेकानंद और महर्षि अरविंद जैसे लेखकों के लिखे इतिहास को पढ़ें, यह ज्यादा प्रमाणिक और सही हैं।