जबलपुर। कमर में कट्टा व पिस्टल खोंसकर खून-खराबा करने की योजना बना रहे तीन बदमाशों को पुलिस ने पकड़ लिया। बदमाशों में एक पर विधानसभा चुनाव के दौरान जिलाबदर की कार्रवाई की गई थी तथा दूसरा हाल ही में एनडीपीएस एक्ट के अंतर्गत 9 साल की सजा भुगतकर जेल से बाहर निकला है। तीसरा आरोपित भी क्षेत्र का शातिर बदमाश है।

पुलिस कंट्रोल रूम में आयोजित पत्रकार वार्ता में एसपी अमित कुमार सिंह ने कार्रवाई की जानकारी दी। गिरफ्तार आरोपितों में प्रेम मलिक उर्फ अनमोल (30) पिता राम मलिक निवासी बिलहरी गोराबाजार, रंजीत (32) पिता रामलाल विश्वकर्मा निवासी एमपीईबी रोड रामपुर एवं बड़कू (28) पिता जगदेव सोनकर निवासी सेठी नगर गोरखपुर शामिल हैं।

जेल से छूटते ही खड़ी की गैंग

आरोपित बड़कू नशीले पदार्थों की तस्करी में 9 साल की सजा काटकर हाल ही में जेल की चारदीवारी से बाहर निकला है। उसके बाहर आते ही जिलाबदर के आरोपित प्रेम मलिक ने रंजीत को साथ लेकर नई गैंग बनाई। तीनों ने नरसिंहपुर से पिस्टल, कट्टा व कारतूस खरीदे तथा लोगों को अड़ी देने व गैंगवार करने की योजना बनाने में जुट गए। एसपी ने बताया कि बुधवार को पता चला कि प्रेम दो अन्य युवकों के साथ चेतना मैदान के पास खड़ा है। तीनों किसी गंभीर वारदात की फिराक में हैं।

कमर में खोंस रखी थी पिस्टल

मुखबिर की सूचना पर क्राइम ब्रांच व गोराबाजार पुलिस ने चेतना मैदान के पास घेराबंदी कर तीनों को दबोच लिया। तलाशी ली गई तो प्रेम मलिक के कमर में खोंसकर रखा गया एक देशी पिस्टल, एक कट्टा तथा दो कारतूस जब्त किया गया। रंजीत के कब्जे से एक देशी पिस्टल, एक कट्टा व दो कारतूस तथा बड़कू के कब्जे से एक देशी पिस्टल व एक कारतूस बरामद की गई।

पुलिस टीम को मिलेगा पुरस्कार

एसपी ने आरोपितों को गिरफ्तार करने वाले टीआई गोराबाजार गिरीश ध्ाुर्वे, मृदुलेश शर्मा, राजेश पांडेय, प्रेम लाल विश्वकर्मा, अखिलेश यादव, अनूप सिंह, रविसागर पांडेय, मुनीम सिंह कुलस्ते, संतोष यादव, महेन्द्र मिश्रा, खेमराज तेकाम, देवेन्द्र रनगिरे को पुरस्कृत करने की घोषणा की है।