जबलपुर। होमसाइंस कॉलेज की छात्राओं के लिए ड्रेस कोड व्यवस्था शुक्रवार को लागू होने से पहले ही विवादों में आ गई। कॉलेज की ही एक छात्रा ने सलवार-सूट पर आपत्ति दर्ज कराते हुए इसकी शिकायत सीएम हेल्प लाइन में कर दी। छात्रा का कहना है कि मैं सलवार नहीं, ट्राउजर पहनकर ही कॉलेज आऊंगी। अन्य छात्राएं भी ड्रेस कोड में आने से कतरा रही हैं। लिहाजा कॉलेज प्रबंधन ने शुक्रवार से लागू की जाने वाली ड्रेस कोड व्यवस्था को अब 20 अगस्त तक के लिए आगे बढ़ा दिया है। इसके पहले कॉलेज प्रबंधन ने शासन के आदेश का हवाला देते हुए छात्राओं को 10 अगस्त से नीले सलवारसूट और नीले दुपट्टे में आने का फरमान जारी किया था।

15 दिन पहले चस्पा की सूचना -

कॉलेज प्रबंधन ने 15 दिन पहले सूचना बोर्ड में निर्धारित ड्रेस में कॉलेज आने की सूचना बोर्ड में चस्पा कर दी थी। इसमें कहा गया था कि शासन के निर्देश पर कॉलेज की स्नातक, स्नातकोत्तर, पीजी डिप्लोमा की समस्त छात्राओं के लिए यूनिफार्म अनिवार्य रूप से लागू की जा रही है। सिर्फ बुधवार को यूनिफार्म का दिन मुक्त रखा गया है।

इसलिए ड्रेस कोड से बच रही हैं छात्राएं -

जो ड्रेस लागू की जा रही है कि उसमें घुटनों तक हॉफ स्टैंड गोल कॉलर वाला चौकड़ी नीला कुर्ता है, फुल आस्तीन वाला। इसके साथ ही नीले कलर के सलवार के साथ नीला दुपट्टा शामिल है। छात्राएं चाहती है कि कोई दूसरा कलर हो।

कॉलेज में न्यू एडमिशन लेने वाली छात्राओं का कहना है कि अभी उन्होंने यूनिफार्म नहीं ली।

हॉस्टल की एक छात्रा ने सलवार की जगह ट्राउजर या जींस पहनकर आने की शिकायत सीएम हेल्पलाइन में

तक दर्ज करा दी। कॉलेज में करीब 3500 छात्राएं अध्ययनत हैं।

कॉलेज ने कहा-छात्राओं में एकरूपता लाने अनिवार्य किया ड्रेस -

इधर कॉलेज प्रबंधन का कहना है कि शासन के निर्देश पर ही कॉलेज में ड्रेसकोड अनिवार्य किया जा रहा है।

इससे छात्राओं में एकरूपता रहेगी। आसानी से आईडेंटिफाई भी हो सकेंगी।

कॉलेज में नव प्रवेशित छात्राओं की परेशानी को देखते हुए कॉलेज में अब 20 अगस्त से ड्रेस कोड लागू किया जाएगा। एक छात्रा ने सीएम हेल्पलाइन में शिकायत की है। ड्रेस कमेटी में शिकायत का निराकरण कराया जाएगा।

-अखिलेश अयाची, प्रभारी प्राचार्य, होमसाइंस कॉलेज