जबलपुर। पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता बाबूलाल गौर से संगठन और भाजपाइयों ने भी दूरी बनानी शुरू कर दी है। यही कारण है कि वे मंडला जाने के लिए रविवार सुबह सर्किट हाउस पहुंचे तो उनसे मिलने न संगठन के पदाधिकारी पहुंचे और न ही कोई नेता। हालांकि, कांग्रेसी नेता न सिर्फ मिलने पहुंचे बल्कि उनका स्वागत भी किया। पत्रकारों से बातचीत में भी पूर्व मुख्यमंत्री ने इशारों-इशारों में भाजपा के कुछ नेताओं पर निशाना भी साधा। उन्होंने कहा कि मैं सच बोलता हूं, जो कड़वा होता है।

कांग्रेस नेताओं के पहुंचने पर भी कहा कि उनके पास भाजपा-कांग्रेस सभी दल के नेता आशीर्वाद लेने आते हैं। बताया कि उनसे मिलने दिग्विजय सिंह आए थे। कांग्रेस से चुनाव लड़ने का प्रस्ताव भी दिया लेकिन अभी कुछ तय नहीं है। उन्होंने कांग्रेस में आने की अटकलों को नकार दिया। वे लोकसभा चुनाव लड़ेंगे कि नहीं इस पर भी संशय है। स्थानीय कांग्रेस नेताओं में नेता मुकेश राठौर, भारत सिंह यादव और अन्य कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया। बाबूलाल गौर ने भी उनके सम्मान को सराहा और बातचीत की।

पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर के आने की खबर संगठन स्तर पर नहीं मिली। इसलिए उनसे मिलने नहीं गए। कोई भी नेता आता है तो संगठन से जानकारी मिलती है या नेता खुद बुलाते हैं। -जीएस ठाकुर, नगर अध्यक्ष, भाजपा