जबलपुर। मतदान सामग्री के साथ चुनाव अमले को केन्द्रों तक पहुंचाने व वापस लाने वाले बसों के ड्राइवर-कंडेक्टर भी इस बार लोकसभा चुनाव में अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकेंगे। ड्राइवर-कंडक्टर जिस मतदान केन्द्र में मतदान दलों को लेकर जाएंगे वहीं पर मतदान कर सकेंगे। चुनाव आयोग की गाइडलाइन के तहत जिला निर्वाचन कार्यालय आरटीओ के माध्यम से ड्राइवर, कंडक्टरों की पहचान सुनिश्चित करने ईडीसी (इलेक्शन ड्यूटी सर्टिफिकेट) फार्म भरवा रहा है। फार्म भरने वाले ड्राइवर, कंडक्टर को ही मतदान करने की सुविधा मिलेगी।

छुट्टी न मिलने के कारण नहीं कर पाते थे मतदान

अभी तक चुनाव के दौरान ड्राइवर-कंडक्टर को छुट्टी न मिलने के कारण वह अपने मताधिकार का प्रयोग नहीं कर पाते थे, क्योंकि मतदान दलों को केन्द्रों तक पहुंचाने के लिए उनकी ड्यूटी लगा दी जाती है।

विधानसभा चुनाव में नहीं कर पाए थे मतदान

विधानसभा चुनाव 2018 में 1200 बसें अधिग्रहित की गई थीं। इनके ड्राइवर- कंडक्टर मतदान नहीं कर पाए थे। बस ऑपरेटरों की मांग पर मतदान दलों को ले जाने से पहले 500 से ज्यादा ड्राइवर-कंडक्टरों को आनन-फानन में डाक मतपत्र के जरिए मतदान कराया गया था। लिहाजा इस बार बस ऑपरेटर एसोसिएशन की मांग पर ड्राइवर-कंडक्टरों से ईडीसी फार्म भरवाकर उनको मतदान करने की सुविधा दी जा रही है।

-2600 ड्राइवर-कंडक्टरों की लगेगी ड्यूटी

- 1320 बसों को चुनाव के लिए किया जा रहा अधिग्रहित।

- 2600 से ज्यादा ड्राइवर-कंडक्टर की लगेगी ड्यूटी।

मतदान दलों को लाने-ले जाने वाले ड्राइवर-कंडक्टर भी अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकेंगे। आरटीओ के माध्यम से उनसे ईडीसी फार्म भरवाए जा रहे हैं। जिस मतदान केन्द्र में उनकी ड्यूटी लगेगी वहीं पर मतदान कर सकेंगे।

-नमःशिवाय अरजरिया, प्रभारी, उप जिला निर्वाचन अधिकारी कार्यालय