जबलपुर। मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने केन्द्रीय प्रशासनिक अधिकरण (कैट) के पूर्व आदेश को विधिसम्मत पाते हुए बीएसएनएल द्वारा किए गए तबादला आदेश पर मुहर लगा दी। इसी के साथ याचिकाकर्ता इंजीनियर आरके श्रीवास्तव को जोर का झटका लगा।

मामले की सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता की ओर से दलील दी गई कि बीएसएनएल जबलपुर से सीधे नॉर्थ ईस्ट ट्रांसफर करना नियमानुसार अनुचित है। इस रवैये के खिलाफ पहले विभागीय स्तर पर विरोध दर्ज कराया गया। जब समाधान नहीं मिला तो कैट की शरण ली। वहां से याचिका खारिज होने पर कैट के आदेश को हाईकोर्ट में चुनौती देनी पड़ी।

बहस के दौरान बीएसएनएल के वकील ने दलील दी कि याचिकाकर्ता का तबादला प्रशासनिक आवश्यकता के मद्देनजर किया गया था। लिहाजा, उसे दी गई चुनौती अनुचित है। हाईकोर्ट ने पूरे मामले पर गौर करने के बाद बीएसएनएल का पक्ष मजबूत पाया।