जबलपुर। रानी दुर्गावती यूनिवर्सिटी में दूसरे दिन भी कामकाज ठप रहा। कर्मचारी कैंपस में पहुंचे लेकिन काम नहीं किया। विभागों में ताला लटका रहा। परीक्षा का कोई काम नहीं हो सका। शिक्षक वेल्यूएशन के लिए पहुंचे लेकिन विभागों का ताला बंद होने की वजह से काम नहीं हो सका। हड़ताल इसी तरह जारी रही तो परीक्षा परिणामों का वक्त पर घोषित होना संभव नहीं होगा।

कर्मचारी संघ ने बताया कि प्रदेशव्यापी हड़ताल है। 17 सूत्रीय मांगों को लेकर आंदोलन किया जा रहा है। जिस वजह से हर यूनिवर्सिटी में काम बंद हड़ताल अनिश्चितकाल के लिए है। हड़ताल की वजह से विद्यार्थी भी परेशान हो रहे हैं। परीक्षा और डिग्री को लेकर कई छात्र यूनिवर्सिटी पहुंचे लेकिन किसी का काम नहीं हो सका। सभी को वापस लौटना पड़ा। प्रशासन ने रिजल्ट जल्द घोषित करने के लिए केन्द्रीयकृत मूल्यांकन की व्यवस्था रखी है। शिक्षक यूनिवर्सिटी में आकर मूल्यांकन का काम कर रहे हैं लेकिन हड़ताल के कारण मूल्यांकन कक्ष में कर्मचारी गायब हो गए हैं। परीक्षा कापियों का बंडल तक उठाने कोई नहीं है। इस वजह से मूल्यांकन का काम भी धीमा हो गया है। बताया जाता है कि यदि हड़ताल लंबी चली तो परीक्षा परिणाम वक्त पर आना संभव नहीं होगा। शैक्षणेत्तर कर्मचारी संघ के अध्यक्ष बंशबहोर पटेल, प्रेम पुरोहित, संजय यादव,वीरेन्द्र तिवारी, विनीता तिवारी और अनिल शुक्ला समेत सैकड़ों कर्मचारी हड़ताल पर रहे।

आज भी नहीं होगा काम-

रानी दुर्गावती यूनिवर्सिटी में कामबंद हड़ताल तीसरे दिन 9 मार्च को भी जारी रहेगी। कर्मचारी संघ ने कहा कि जब तक प्रदेश पदाधिकारियों के साथ सरकार की वार्ता नहीं होती है तब तक हड़ताल खत्म नहीं होगी।