जबलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

रांझी के चम्पा नगर स्थित जमीन का डायवर्सन कराने के लिए तहसीली कार्यालय के चक्कर काट रहे एक युवक से आरआई ने काम के बदले साढ़े 7 हजार रुपए की रिश्वत मांगी। परेशान युवक ने उसे 2 हजार रुपए देने के बाद मामले की शिकायत लोकायुक्त कार्यालय में कर दी। मामले की जांच और आरआई को घूस लेते रंगेहाथ पकड़ने के लिए लोकायुक्त डीएसपी दिलीप झरबड़े के नेतृत्व में निरीक्षक कमल सिंह उईके, मनोज गुप्ता, आरक्षक जुबैद खान, सोनू चौधरी और राकेश विश्वकर्मा की टीम का गठन किया गया। टीम ने जांच के बाद आरोपों की पृष्टि होने पर शुक्रवार की दोपहर 2.30 बजे योजनाबद्घ तरीके से आरोपित को ट्रैप कर लिया।

रांझी बड़ा पत्थर निवासी दीपक पटेल (28) ने गुरुवार को लोकायुक्त कार्यालय पहुंचकर शिकायत करते हुए बताया कि उसकी एक जमीन मानेगांव चम्पा नगर में है। जिसका डायवर्सन कराना है। तकरीबन एक महीने पहले वह डायवर्सन के लिए तहसीली कार्यालय गया था। जहां उसे आरआई अरविंद पाण्डेय (52) मिला। आरआई पाण्डेय ने काम के लिए हामी भर दी, लेकिन इसके एवज में 8 हजार रुपए की रिश्वत मांगी। बातचीत में मामला साढ़े 7 हजार रुपए में तय हुआ।

2 हजार की पहली किश्त देकर आया हूं

शिकायत के दौरान दीपक ने बताया कि उसने किसी तरह से रुपए जुटाए और पहली किश्त 2 हजार रुपए गुरुवार की दोपहर आरआई को देकर आ रहा है। आरआई ने बाकी के साढ़े 5 हजार रुपए लेकर शुक्रवार को बुलाया है।

आधे घंटे पहले टीम ने पहुंचकर की घेराबंदी

डीएसपी झरबड़े और उनकी टीम तकरीबन 2 बजे तहसीली कार्यालय पहुंच गई और आरआई के आने का इंतजार करने लगी। 2.25 पर आरआई पाण्डेय कार्यालय पहुंचा और उसने दीपक को फोन करके कार्यालय आने को कहा। दीपक कार्यालय के बाहर ही खड़ा था, जो कुछ ही देर में आरआई के पास पहुंच गया।

हाथ बढ़ाकर मांगे रुपए

दीपक के पहुंचते ही आरआई अरविंद पाण्डेय ने हाथ बढ़ाया और उससे बाकी के साढ़े 5 हजार रुपए की मांग की। जिस पर दीपक ने रुपए आरआई के हाथ में थमा दिए, जिसे उसने अपनी पैंट की जेब में रख लिए। इसी दौरान लोकायुक्त टीम ने आरआई को धरदबोचा।

--बॉक्स--

तीन दिन पहले एसडीएम ने कर दिए थे आदेश

दीपक रुपए देने से पहले बुधवार को एसडीएम ओम नमः शिवाय अरजरिया के पास भी आवेदन लेकर गया था। जिस पर एसडीएम ने डायवर्सन के निर्देश जारी कर दिए थे। लेकिन आरआई ने उसे भ्रमित कर रिश्वत ले ली।