जबलपुर। नईदुनिया रिपोर्टर

जहां ललक निशान बाकी...आज चुनाव के चक्कर...कौन सिंधु से...बस यही एक कुछ भी नहीं मां..जैसी कविताओं को छात्राओं ने कवि सम्मेलन के दौरान प्रस्तुक किया। जिसे सभी श्रोताओं ने काफी पसंद किया। ज्वलंत मुद्दों पर कटाक्ष करती कविताओं को काफी सराहना मिली। मौका था हवाबाग कॉलेज में आयोजित कवि सम्मेलन का, जिसमें छात्राओं ने उत्साह के साथ हिस्सा लिया और एक से बढ़कर एक कविताओं की प्रस्तुति दी। स्व.अटल बिहारी बाजपेयी व प्रसिद्ध कवि गोपाल दास नीरज को समर्पित काव्य पाठ रहा। कार्यक्रम में डॉ.भारती शुक्ला ने हिंदी दिवस के महत्व के बारे में बताया। इस काव्य पाठ का आयोजन हिंदी विभागाध्यक्ष डॉ.भारती शुक्ला, डॉ.अरुणा व डॉ.आशा श्रीवास्तव ने किया। छात्र-छात्राओं द्वारा स्वरचित काव्य पाठ का संचालन नरगिस खान व चांदनी जैन ने किया। कॉलेज की प्राचार्य डॉ.हर्षलता राय व प्रबंधक छाया सिलास का सहयोग रहा। कार्यक्रम में कॉलेज के समस्त प्राध्यापक, कर्मचारी आदि उपस्थित रहे। काव्य पाठ में सोनी शबनम बानो, तौसीफ खान, सोनिया वंशकार, लाखि फातिमा, नीलम वाल्मीक, रानू सिंग आदि ने हिस्सा लिया।