जबलपुर। पेटीएम की प्रतिदिन की रकम निकासी की लिमिट 25 हजार रुपए सेट की हुई है। लेकिन उससे 80 हजार का ट्रांजेक्शन कैसे हो गया। शिकायतकर्ता दीपक संघी ने यह शिकायत पेटीएम के कस्टमर केयर में की उसका कोई उचित जवाब नहीं मिल पा रहा है।

इसके अलावा एक शिकायत और की कि बैलेंस जीरो कैसे हो गया। अंधरदेव मार्केट में स्थित एमपी स्पोर्ट्स के संचालक दीपक ने कहा कि उनके पेटीएम वैलेट से 80 हजार रुपए निकालने की शिकायत लार्डगंज थाने में की गई है। हालांकि, अभी तक पुलिस और पेटीएम की ओर से कोई प्रभावी कार्रवाई नहीं हुई है।

मास्टर माइंड कोई जानकार ही है

दीपक संघी ने बताया कि उन्हें संदेह है कि ठगी करने वाले चार लोग कोई और हैं, लेकिन उनका मास्टर माइंड शहर का ही है। जिसे उनके बारे में जानकारी है। कस्टमर केयर ने उन्हें चार नंबर दिए थे, जिसमें बहुत मेहनत करने के बाद राजस्थान के अलवर जिले के सल्वर खान और रमजान खान के नाम सामने आए हैं।

2700 रुपए का मांगा था सामान

दीपक के कॉल रिसीव करते ही फोन करने वाले ने पूछा था कि आप की स्पोर्ट्स के सामान की दुकान है। उसे कुछ सामान चाहिए। सामान 2700 रुपए का था, जिसे उसने कटनी भेजने के लिए कहा था। हालांकि फोन करने वाले से कहा था कि बस से सामान भेज देंगे, लेकिन बस का किराया भी उन्हें ही देना होगा। बैंक बंद होने के कारण उसने पेटीएम से पेमेंट करने को कहा था।

उसने 11 रुपए का फर्जी मैसेज किया और 5 रुपए का रिटर्न मैसेज करने को कहा था। इसके बाद 1 सेकेंड में 4 अलग-अलग मोबाइलों से 20-20 हजार कर 80 हजार रुपए निकाल लिए थे। उन्होंने दो जनवरी को बैंक में जाकर अपने अकाउंट चेक किए कि कहीं पेटीएम के रुपए ट्रांसफर तो नहीं हो गए। लेकिन जब किसी में रिकार्ड नहीं मिला, तो मामले की शिकायत थाने में की गई।